Breaking News

भारत ने खरीदा अबू धाबी तेल क्षेत्र का 10 फीसदी हिस्सा, जानें क्या होगा लाभ

By Lalit Singh

अंतरराष्ट्रीय | Published On: 12 Feb, 2018 | 7:49 PM GMT 05:30+

भारत ने खरीदा अबू धाबी तेल क्षेत्र का 10 फीसदी हिस्सा, जानें क्या होगा लाभ

अबू धाबी: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के यूएई के दूसरे दौरे से भारतीय कंसोर्टियम को पहली बार अबू धाबी के बड़े तेल संसाधन में हिस्सेदारी मिली है। पब्लिक सेक्टर तेल प्रोडक्शन कंपनी ओएनजीसी (विदेश), भारत पेट्रो रिसोर्सेज, इंडियन ऑयल की कंसोर्टियम और अबू धावी के नेशनल ऑयल कंपनी (एडएनओसी) के बीच शनिवार को इसके ऑफशोर लोअर जाकुी कंसेशन में 10 फीसदी भागीदारी अधिग्रहण को लेकर समझौता हुआ।

Read more:Valentine Day Special 2018 : इस एक्ट्रेस की मुस्कान पर फिदा हुआ सोशल मीडिया, देखें वीडियो

बता दें कि अबू धावी संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) का हिस्सा है, जो गल्फ को ऑपरेशन काउंसिल (जीसीसी) का सदस्य है। यूएई भारत को सबसे ज्यादा तेल की आपूर्ति करता है और यह भारत का दसवां सबसे बड़ा निवेशक भी है। ओएनजीसी (विदेश) की अगुवाई वाली कंसोर्टियम ने हिस्सेदारी शुल्क के रूप में अरब अमीरात की मुद्रा में 2.2 अरब दिरहम यानी 60 करोड़ अमेरिकी डॉलर का योगदान दिया है।

Read more:केंद्रीय मंत्री उमा भारती अब नहीं लड़ेंगी कोई चुनाव,बताई यह वजह

यह समझौता नौ मार्च 2018 से लागू हो जाएगा और इस करार की अवधि 40 साल है। ओएनजीसी विदेश की ओर से जारी बयान के मुताबिक, लोअर जाकुम तेल क्षेत्र से रोजाना चार लाख बैरल तेल का उत्पादन होता है, जबकि आगे 2025 तक इसे 4.5 लाख बैरल करने का है। इस तेल क्षेत्र से उत्पादित कुल तेल का 10 फीसदी हिस्सा भारतीय तेल उत्पादक ओएनजीसी विदेश का हक होगा।

INH News 


Title For Web: india bought 10 of abu-dhabi oil sector
india Bought 10 persent oil sector Abu dhabi PM marendra modi
Trending
1/50

सब्सक्राइब करें हिन्दुस्तान का डेली न्यूज़लेटर