Breaking News
  • बीजापुर : मिलिशिया कमांडर अवलम मंगू गिरफ्तार, आईईडी प्लांट का मास्टर माइंड है नक्सली मंगू, जवानों को निशाना बनाने की फिराक में था नक्सली, पुलिस ने पालनार के जंगलों से अरेस्ट किया।
  • मुंगेली : 2 अलग सड़क हादसे में 3 लोग घायल, 1 बजुर्ग सहित 2 लोग हुए घायल, 1 को जिला अस्पताल में किया गया भर्ती, 2 बिलासपुर सिम्स रेफर, कोतवाली थाना क्षेत्र की घटना।
  • जांजगीर : पारिवारिक विवाद में पत्नी को छत से दिया धक्का, सट्टा और शराब का लती है गिरफ्तार पति, महिला की हालत गंभीर।
  • पटना : बिहार के सीएम नीतीश कुमार की जापान यात्रा पर पूर्व उप मुख्यमंत्री ने कसा तंज, कहा- ‘शुरू हुई ढलान तो चच्चा चले जापान’।
  • नई दिल्ली : कोयला खनन में लगी सरकारी कंपनी CIL का एकाधिकार खत्म, केंद्र सरकार ने दी प्राइवेट कंपनियों को हरी झंडी।
  • नई दिल्ली : पीएनबी घोटाले पर बोले अन्ना हजारे, ‘देश को भ्रष्टाचारमुक्त नहीं बनाना चाहती सरकारें’।
  • काठमांडू : नेपाली पीएम केपी ओली का बयान, ‘भारत से और लाभ उठाने के लिए चीन से गहरा करना चाहते हैं रिश्ता’।

आप करते हैं चेकबुक का ज्यादा इस्तेमाल तो यह खबर आपको झटका दे सकती है, जानें क्यों

By Sanjeet Tripathi

राष्ट्रीय | Published On: 17 Nov, 2017 | 9:36 AM GMT 05:30+

आप करते हैं चेकबुक का ज्यादा इस्तेमाल तो यह खबर आपको झटका दे सकती है, जानें क्यों

नई दिल्ली : यदि आप अपने वित्तीय लेनदेन के लिए चेकबुक का इस्तेमाल ज्यादा करते हैं तो यह खबर आपको थोड़ा झटका दे सकती है। दरअसल सरकार नोटबंदी के एक साल पूरा होने के बाद बैंकिंग व्यवस्था में बदलाव के लिए एक और बड़ा कदम उठा सकती है। आने वाले साल में हो सकता है कि चेकबुक के माध्यम से होने वाले सभी तरह के लेन देन बंद हो जाए। चेक के बजाए बैंक केवल डिजिटल ट्रांजेक्शन करने के लिए कह सकते हैं। इससे आगे चलकर इकोनॉमी को कैशलेस बनाने का केंद्र सरकार का सपना पूरा हो सकता है।

उद्योग संगठन कॉन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि डिजिटल लेनदेन को बढ़ावा देने के लिए केंद्र सरकार बैंक चेकबुक सुविधा को निकट भविष्य में बंद कर सकती है। उन्होंने कहा कि संभावना है कि डिजिटल लेनदेन को उत्साहित करने के लिए सरकार निकट भविष्य में ऐसा कदम उठा सकती है।

Read more: Chhattisgarh Breaking : हाईकोर्ट ने 3 साल की बच्ची से रेप और हत्या के मामले में मृत्युदंड की सजा बरकरार रखी

बता दें कि सरकार 25000 करोड़ रुपए सिर्फ नोटों की छपाई पर खर्च करती है और 6000 करोड़ रुपए उन नोटों की सुरक्षा पर खर्च किए जाते हैं। इस खर्च पर लगाम लगाने के लिए सरकार अपनी तरफ से पूरी कोशिशें कर रही है। अगर डिजिटल लेनदेन बढ़ता है, तो फिर यह खर्च न के बराबर रह जाएगा।

 

INH News


Title For Web: Central Government can close bank check book facility in near future
Latest News INH News Chhattisgarh News Hindi News News in Hindi Latest News Checkbook Bank Central Govt Digital Transaction Note economy
Trending
1/50

सब्सक्राइब करें हिन्दुस्तान का डेली न्यूज़लेटर