Breaking News
  • बीजापुर : मिलिशिया कमांडर अवलम मंगू गिरफ्तार, आईईडी प्लांट का मास्टर माइंड है नक्सली मंगू, जवानों को निशाना बनाने की फिराक में था नक्सली, पुलिस ने पालनार के जंगलों से अरेस्ट किया।
  • मुंगेली : 2 अलग सड़क हादसे में 3 लोग घायल, 1 बजुर्ग सहित 2 लोग हुए घायल, 1 को जिला अस्पताल में किया गया भर्ती, 2 बिलासपुर सिम्स रेफर, कोतवाली थाना क्षेत्र की घटना।
  • जांजगीर : पारिवारिक विवाद में पत्नी को छत से दिया धक्का, सट्टा और शराब का लती है गिरफ्तार पति, महिला की हालत गंभीर।
  • पटना : बिहार के सीएम नीतीश कुमार की जापान यात्रा पर पूर्व उप मुख्यमंत्री ने कसा तंज, कहा- ‘शुरू हुई ढलान तो चच्चा चले जापान’।
  • नई दिल्ली : कोयला खनन में लगी सरकारी कंपनी CIL का एकाधिकार खत्म, केंद्र सरकार ने दी प्राइवेट कंपनियों को हरी झंडी।
  • नई दिल्ली : पीएनबी घोटाले पर बोले अन्ना हजारे, ‘देश को भ्रष्टाचारमुक्त नहीं बनाना चाहती सरकारें’।
  • काठमांडू : नेपाली पीएम केपी ओली का बयान, ‘भारत से और लाभ उठाने के लिए चीन से गहरा करना चाहते हैं रिश्ता’।

Lok Suraj 2018 : ‘मैं जिंदा हूं साहब, सरकारी रिकार्ड में भी मुझे जिंदा कर दो’

By Sanjeet Tripathi

छत्तीसगढ़ खबर | Published On: 16 Jan, 2018 | 4:25 AM GMT 05:30+

Lok Suraj 2018 : ‘मैं जिंदा हूं साहब, सरकारी रिकार्ड में भी मुझे जिंदा कर दो’

गरियाबंद : लोक सुराज दल को एक व्यक्ति ने खुद को जिंदा करने के लिए आवेदन सौपा है। उसका आरोप है कि वह जिंदा होते हुए भी सरकारी रिकार्ड में मृत घोषित हो गया है, जिसके चलते उसे पीएम आवास नही मिल पा रहा है, यह व्यक्ति है देवभोग की मुंगिया पंचायत के आश्रित ग्राम कुरमी बासा का 41 वर्षीय धनसाय यादव है। वैसे तो ये जिंदा है मगर सरकारी रिकार्ड में ये मृत है। जब खुद को जिंदा साबित करने के लिए धनसाय गांव में लगे लोक सुराज अभियान दल के पास पहुंचा तो वे भी ये सब सुनकर अवाक रह गये। पहले तो उन्होंने धनसाय का मजाक उड़ाया, लेकिन जब धनसाय ने आवेदन उनके सामने रखा तो उनके भी होश उड गये कि आखिर ये जिंदा व्यक्ति मृत कैसे हो सकता है।

सच्चाई है यही है कि धनसाय को पीएम आवास की सूची में मृत घोषित कर दिया गया है।, चार दिन पहले जब सूची में उसने खुद को मृत पाया तो उसने लोक सुराज में आवेदन देकर खुद को जिंदा करने की मांग की है। 

ये विभागीय लापरवाही तो है मगर ये लापरवाही किसने की, अभी इसका खुलासा नही हुआ है। पीएम आवास की सूची पंचायत सचिव के माध्यम से जनपद कार्यालय पहुंचती है। 2015 में पीएम आवास की सूची का पुनरीक्षण किया गया था तब धनसाय का नाम सूची में 93 नंबर पर था मगर उसके बाद उसे कब मृत घोषित कर दिया गया पता ही नही चला।

मामले की असलियत जानने के लिए जब INH News  जनपद सीईओ के पास पहुंचा तो कार्यालय में हड़कंप मच गया। धूल खाती फाईलों को टटोला गया, कम्ययूटर में भी ऑनलाइन रिकॉर्ड खंगाला गया तो पता चला कि जनपद कार्यालय के रिकार्ड में धनसाय अभी जिंदा है।

Read more: Watch Video, यह संकल्प से सिद्धी का समय : प्रधानमंत्री मोदी

2 महीने बाद तेरह मार्च को जब माडागांव में लोक सुराज के दौरान मिले आवेदनों का निपटारा होगा उस समय हो सकता है धनसाय की समस्या का समाधान भी हो जाय और सरकारी रिकार्ड में वह फिर से जिंदा हो जाए। हो सकता है चार सदस्यीय धनसाय के परिवार को पीएम आवास भी मिल जाय मगर इस मामले में यह बात आसानी से समझी जा सकती है कि जिले के अधिकारी कितना लापरवाहीपूर्वक काम कर रहे है और उनकी लापरवाहियों से आम लोगों को कितनी तकलीफें उठानी पड़ती हैं।

 

बलराम नायक की रिपोर्ट

 

INH News


Title For Web: Lok Suraj 2018 - One person gave an application to change govt record in Lok Suraj
Latest News INH News Chhattisgarh News Hindi News News in Hindi Latest News govt record Lok Suraj Lok Suraj Abhiyan Lok Suraj 2018 Gariyaband
Trending
1/50

सब्सक्राइब करें हिन्दुस्तान का डेली न्यूज़लेटर