ब्रेकिंग न्यूज़
  • On This Day: आज ही के दिन अनिल कुंबले ने रचा था इतिहास, बनाए ये बड़े
  • सपा के खिलाफ बीजेपी ने सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया, पार्टी का पंजीकरण रद्द करने की मांग
  • जल्द ही भारत में तैयार होगी ओमिक्रॉन वैक्सीन, ये कंपनी कर रही तेजी से काम
  • Ashes 2022: ऑस्ट्रेलिया ने जमाया एशेज सीरीज पर कब्जा, इंग्लैंड को दी 146 रनों से शिकस्त
  • उत्तराखंड के कैबिनेट मंत्री हरक सिंह भाजपा से निष्कासित
  • Twin Tower : नोएडा में ट्विन टावर को मुंबई की कंपनी गिराएगी
  • आज वर्ल्ड इकोनोमिक फोरम को PM Modi करेंगे संबोधित, जानें कौन-कौन से देश लेंगे हिस्सा
  • पिछले 24 घंटे में 2 लाख 58 हजार कोरोना के नए मामले, देशभर में सक्रिय मरीज 16 लाख तो 385 की मौत

मध्य प्रदेश

  • MP : एक दिन में मिले 7 हजार के करीब कोरोना पॉजिटिव, निर्देशों का पालन नहीं होने से बिगड़ रहे हालात

    MP : एक दिन में मिले 7 हजार के करीब कोरोना पॉजिटिव, निर्देशों का पालन नहीं होने से बिगड़ रहे हालात

    भोपाल। कोरोना को लेकर प्रतिबंध बढ़ने के बावजूद संक्रमण घटने का नाम नहीं ले रहा है। कोरोना पॉजिटिव मिलने वालों का आंकड़ा लगातार बढ़ता जा रहा है। यही वजह है कि बीते 24 घंटे में प्रदेश में लगभग सात हजार संक्रमित मिले। इसकी वजह कोरोना को लेकर जारी निर्देशो पर अमल न होना भी है। सरकार, राजनीतिक दल और लोग गाइडलाइन का पालन नहीं कर रहे हैं। इंदौर, भोपाल, ग्वालियर, जबलपुर सहित कई शहरों में हालात बिस्फोट होने की ओर हैं।

    प्रदेश के 49 जिलों में मिले 6970 पॉजीटिव

    स्वास्थ्य विभाग के अनुसार मध्यप्रदेश में एक दिन में 49 जिलों में 6970 नए केस मिले हैं। 2106 मरीज ठीक हुए। 51 जिलों में एक्टिव केस की संख्या 34 हजार 973 पहुंच गई है। हॉटस्पॉट बने इंदौर में 1890, भोपाल में 1398 मरीज मिले। ग्वालियर में 600 संक्रमित सामने आए। जबलपुर में 593 केस मिले। सागर में 338 पॉजिटिव आए हैं। इंदौर में संक्रमण दर 17.05 फीसदी हो गई। एक्टिव मरीजों की संख्या 10,313 है। ग्वालियर में 678 लोगों को कोरोना होने की पुष्टि हुई। यहां लगभग हर पांचवां मरीज संक्रमित निकला। इनमें 600 मरीज ग्वालियर के, 49 मरीज दूसरे जिलों के हैं तथा 29 मरीज ऐसे हैं जो दोबारा जांच में भी पॉजिटिव मिले हैं।

    और भी...

  • मध्यप्रदेश में दो दिन और रहेगा शीतलहर का असर, कई जिलों में रात का तापमान 6 डिग्री से नीचे पहुंचा

    मध्यप्रदेश में दो दिन और रहेगा शीतलहर का असर, कई जिलों में रात का तापमान 6 डिग्री से नीचे पहुंचा

    भोपाल। मध्यप्रदेश में शीतलहर और ठंड का प्रकोप जारी है। कई जिलों में रात का तापमान 6 डिग्री से भी नीचे पहुंच गया है। ठंड का यह असर दो दिन तक और बने रहने की संभावना है। इसके बाद ठंड कम होगी। हालांकि दो दिन बाद दो नए सिस्टम बनने से मौसम में फिर बदलाव हो सकता है। आज और कल दो दिन संक्राति मनाई जा रही है। इसके बाद ठंड कम होना प्रारंभ हो जाएगी।

    यहां रहेगी कड़ाके की ठंड

    प्रदेश के उज्जैन, भोपाल, इंदौर, ग्वालियर, चंबल, सागर और जबलपुर में ठंड का ज्यादा असर रहेगा। उज्जैन में अगले दो दिन कड़ाके की ठंड रहेगी। इन इलाकों में दिन का पारा 20 डिग्री के नीचे चल रहा है। रात का तापमान भी 10 डिग्री से नीचे है। दिन और रात का तापमान सामान्य से 5 डिग्री से भी ज्यादा नीचे चला गया है। इस कारण इन इलाकों में ज्यादा ठंड है। रात और दिन का तापमान 24 घंटे तक इसी तरह बने रहेंगे। उज्जैन में दिन में कोल्ड डे रहेगा। सिवनी, बैतूल, धार, इंदौर, खंडवा, खरगोन, शाजापुर, रतलाम, उज्जैन, दतिया, गुना और श्योपुरकलां में दिन ज्यादा ठंडे रहेंगे। रात का तापमान कई जगहों पर 6 डिग्री के नीचे चला गया है। भिंड, ग्वालियर, शिवपुरी, अशोकनगर, सिवनी, विदिशा और उज्जैन में दिन का पारा सबसे कम रहा। शाम के बाद मौसम में कुछ बदलाव होने का अनुमान है।

     

    और भी...

  • मुख्यमंत्री शिवराज ने की घोषणा, कोरोना के कारण 31 जनवरी तक बंद रहेंगे 1 से 12 वीं तक के स्कूल

    मुख्यमंत्री शिवराज ने की घोषणा, कोरोना के कारण 31 जनवरी तक बंद रहेंगे 1 से 12 वीं तक के स्कूल

    भोपाल। जैसी संभावना थी, वही हुआ। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने क्राइसेस मैनेजमेंट कमेटी की बैठक के बाद एलान कर दिया कि मध्यप्रदेश में 1 से 12 वीं कक्षा तक के स्कूल 31 जनवरी तक बंद रखे जाएंगे। वजह होगी कोराना का बढ़ता प्रकोप। चौहान ने कहा कि आर्थिक गतिविधियों पर कोई असर न पड़े, इसलिए जरूरी प्रतिबंध लगाए जा रहे हैं। मुख्यमंत्री ने आज अन्य कई प्रतिबंधों की भी घोषणा की है। राजनीतिक, सामाजिक और धार्मिक रैलियों पर भी प्रतिबंध लगा दिया गया है। अलबत्ता धार्मिक स्थल फिलहाल खुले रहेंगे।
     

    यह तय की गई गाइडलाइन

    - आज से कक्षा पहली से लेकर 12वीं तक स्कूलों को 31 जनवरी तक किया बंद रहेंगे

    - सभी प्रकार के मेले पारंपरिक या धार्मिक मेले नहीं लगेंगे

    - धार्मिक स्थल खुले रहेंगे

    - कोई भी जुलूस या रैली राजनीतिक हो या सामाजिक प्रतिबंधित रहेगी.

    हाल के अंदर कार्यक्रम किए जा सकते हैं लेकिन 50 फीसदी उपस्थिति के साथ - बड़ी रैली बड़ी सभा पूरी तरह से प्रतिबंध

    - सभी प्रकार की खेल गतिविधियां स्टेडियम की क्षमता के हिसाब से 50 फीसदी संख्या के साथ बिना दर्शकों के आयोजित की जा सकेगी

    - प्री बोर्ड की परीक्षाएं 20 जनवरी से लिया जाना निश्चित किया गया था इन परीक्षाओं को टेक होम एग्जाम के रूप में किया जाएगा स्कूलों में इस तरह की व्यवस्था बना ली जाएगी।

    - मुख्यमंत्री ने कहा, हमारी कोशिश है कि आर्थिक गतिविधियां बंद ना हो - नाइट कर्फ्यू जारी रहेगा

     

    और भी...

  • मध्यप्रदेश मेें कहर बन कर टूट रहा कोरोना, एक दिन में चार हजार से ज्यादा नए संक्रमित, आधा दर्जन मौतें

    मध्यप्रदेश मेें कहर बन कर टूट रहा कोरोना, एक दिन में चार हजार से ज्यादा नए संक्रमित, आधा दर्जन मौतें

    भोपाल। मध्यप्रदेश में कोरोना का प्रकोप जारी है। कोरोना ने अब जिंदगियों को लीलना भी शुरू कर दिया है। तीसरी लहर में पहली बार 24 घंटे में मिलने वाला कोरोना पाॅजिटिव का आंकड़ा चार हजार को पार कर गया और आधा दर्जन मौतें हो गईं। भोपाल, इंदौर, ग्वालियर, जबलपुर, उज्जैन, सागर जैसे बड़े शहर तो हॉट स्पॉट बने ही हैं, अन्य शहर भी कोरोना की चपेट में बुरी तरह आ रहे हैं। इस बार बच्चों में कोरोना संक्रमण तेजी से फैल रहा है। पिछले 24 घंटे में प्रदेश में 80 पुलिसकर्मी संक्रमित हुए हैं। अब तक 227 पुलिस के जवान संक्रमित हो चुके हैं।

    एक दिन में पॉजिटिव मिलने वालों को आंकड़ा
    प्रदेश में बीते 24 घंटे में 4031 कोरोना पॉजीटिव मिले हैं और जबलपुर में एक दिन में तीन, ग्वालियर में दो और विदिशा में एक कोरोना संक्रमित की मौत हो गई। 24 घंटे में भोपाल में 863 लोगों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। इंदौर में 1104 और जबलपुर में 277 केस आए हैं। ग्वालियर में 635 और सागर में 133 पॉजिटिव आए हैं। भोपाल में पॉजिटिव आए 863 नए कोरोना मरीजों में 47 बच्चे हैं। इनमें आठ महीने की एक बच्ची भी है। यही नहीं, एक जनवरी से अब तक 18 साल तक के 240 से ज्यादा बच्चों की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आ चुकी है।

     

    और भी...

  • मध्यप्रदेश के गृह मंत्री नरोत्तम का एलान, ऑनलाइन गेम पर रोक के लिए लाएंगे एक्ट, ड्राफ्ट तैयार

    मध्यप्रदेश के गृह मंत्री नरोत्तम का एलान, ऑनलाइन गेम पर रोक के लिए लाएंगे एक्ट, ड्राफ्ट तैयार

    भोपाल। बुधवार को एक बच्चे द्वारा फांसी पर झूल जाने के बाद ऑनलाइन गेम पर छूट सवालों के घेरे में है। मध्यप्रदेश के गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कहा है कि ऐसे गेम पर रोक के लिए मध्यप्रदेश सरकार शीघ्र एक्ट लाएगी। इसका मासौदा तैयार हो चुका है। बच्चों को ऑनलाइन गेम के भेंट नहीं चढ़ने दिया जाएगा। आत्महत्या करने वाला बच्चा फ्री फायर गेम खेलने का आदी था।

    ऑनलाइन गेम गंभीर मुद्दा

    नरोत्तम ने कहा है कि ऑनलाइन गेम्स गंभीर विषय है। इन पर लगाम लगाने के लिए हम ऑनलाइन गेम्स का एक्ट मध्यप्रदेश में लेकर आ रहे हैं। ड्राफ्ट तैयार हो चुका है। बहुत जल्द ही इसे मूर्त रूप देंगे। बुधवार को ही भोपाल में 5वीं के स्टूडेंट ने फांसी लगाकर जान दे दी। पेरेंट्स का कहना है कि बच्चा मोबाइल में फ्री फायर गेम खेलने का आदी था।

    और भी...

  • मध्यप्रदेश में तापमान 8 डिग्री तक नीचे लुढ़का, चली शीतलहर, बढ़ी ठंड, तीन दिन तक रहेगा यही मौसम

    मध्यप्रदेश में तापमान 8 डिग्री तक नीचे लुढ़का, चली शीतलहर, बढ़ी ठंड, तीन दिन तक रहेगा यही मौसम

    भोपाल। मध्यप्रदेश के तापमान में गिरावट के बाद ठंड बढ़ गई है। कई शहरों में पारा 8 डिग्री तक लुढ़क गया है। बारिश बंद है और बादल छंट गए हैं। शीतलहर चल पड़ी है। इसकी वजह से प्रदेश के अधिकांश हिस्सों मे ठिठुरन बढ़ी है। ठंड का यह मौसम आगे तीन दिन तक और रहने की संभावना है। पिछले दिनों हुई बारिश से कई जिलों में फसलों को भारी नुकसान हुआ है। इसका सर्वे किया जा रहा है। मुख्यमंत्री ने कहा है कि फसलों के नुकसान का पूरा मुआवजा जल्द दिया जाएगा।

    संक्रांति में रहेगी कड़ाके की ठंड

    प्रदेश के कुछ हिस्सों में तापमान 5 डिग्री से भी नीचे रिकॉर्ड हुआ। उज्जैन में रात का पारा 4.5 डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड हुआ। इस बार संक्रांति पर कड़ाके की ठंड रहेगी। प्रदेश में ठंड का आलम यह है कि दिन में पारा 20 डिग्री और रात में 10 डिग्री के नीचे लुढ़क चुका है। धार, गुना, राजगढ़, रतलाम, शाजापुर और उज्जैन में पारा 6 डिग्री के नीचे चला गया। ग्वालियर और इंदौर में यह 7 डिग्री पर है। भोपाल में पारा 8 डिग्री पर आ गया है।
     

    और भी...

  • मध्यप्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ ने बारिश ओलाें से फसलों की बरबादी पर कैसे घेरा भाजपा सरकार को

    मध्यप्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ ने बारिश ओलाें से फसलों की बरबादी पर कैसे घेरा भाजपा सरकार को

    भोपाल। मध्यप्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने बारिश और ओलावृष्टि से फसलों के नुकसान पर किसानों की पीड़ा को अपने ट्वीट के जरिए आवाज दी है। उन्होंने लिखा है कि विपक्ष में रहते हुए जो शिवराज सिंह चौहान हमें खेतों में जाने की सलाह देते थे वे फसलों के इतने बड़े नुकसान पर अब तक खेतों तक नहीं पहुंचे हैं। उन्होंने कहा है कि अब तक पीड़ितों को बाढ़ से हुए नुकसान का मुआवजा नहीं मिला, यह भरपाई कब कैसे होगी, वे नहीं जानते। उनकी आंखों के सामने अंधेरा है।

    कमलनाथ ने यह लिखा ट्वीट में

    कमलनाथ ने लिखा है कि मध्यप्रदेश के कई जिलो में ओलवृष्टि और बेमौसम बारिश से किसानो की फ़सले पूरी तरह से बर्बाद हो गयी हैं। चारों तरफ़ बर्बादी का मंजर है, किसान राहत व मुआवज़े की माँग कर रहा है, खून के आंसू रो रहा है। कई हिस्सों में अभी तक सर्वे शुरू नही हुए है, कई जगह सर्वे में गड़बड़ी की शिकायतें सामने आ रही है। सरकार को किसानो को तात्कालिक सहायता देकर राहत प्रदान करना चाहिए लेकिन कहीं फसल बीमा का आश्वासन दिया जा रहा है, कहीं सर्वे के नाम पर टालमटोली की जा रही है। विपक्ष में रहकर खेतों में जाने की सलाह देने वाले मुख्यमंत्री और उनके मंत्री किसानो की सुध तक नही ले रहे है, अभी तक खेतों तक नही पहुँच पाये हैं। पिछली ख़राब फ़सलो का मुआवज़ा व बीमा की राशि अभी तक किसानो को नही मिली है तो इस बार का मुआवज़ा कब मिलेगा, यह बड़ा प्रश्न आज किसानो के सामने है ? किसान पहले से ही खाद के संकट, बिजली के संकट से परेशान है और ऐसे में इस संकट ने किसानो की परेशानी को और बढ़ा दिया है।

     

    और भी...

  • दिग्विजय ने कहा- मैंने हमेशा संघी आतंकवाद की बात की, भगवा या हिंदू आतंकवाद की कभी नहीं,

    दिग्विजय ने कहा- मैंने हमेशा संघी आतंकवाद की बात की, भगवा या हिंदू आतंकवाद की कभी नहीं,

    भोपाल। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने बुधवार को अपने निवास में पत्रकारों को बुलाकर हिंदू, हिंदुत्व और अपने धर्म को लेकर विस्तार से बात की। उन्होंने कहा कि मैं न हिंदू विरोधी हूं, न कभी विरोधी रहा, न कभी रहूंगा। मैं आचरण और कर्म से धार्मिक व्यक्ति हूं और सनातन धर्म को मानता हूं। एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि मैंने कभी भगवा अथवा हिंदू आतंकवाद शब्द का इस्तेमाल नहीं किया, हां संघी आतंकवाद जरूर बोला। दिग्विजय ने कहा कि आरएसएस को वेदों, उप निषदों एवं पुराणों से कोई लेना-देना नहीं है। उसे सिर्फ सत्ता और पॉवर चाहिए।

    सनातन धर्म में कट्टरता को कोई स्थान नहीं


    दिग्विजय ने स्वामी रामकृष्ण परमहंस, स्वामी विवेकानंद, गोस्वामी तुलसीदास द्वारा लिखी अथवा कही बातों का जिक्र करते हुए कहा कि सनातन धर्म हमेशा सभी धर्माें के आदर की बात करता है। सभी पंथों, धर्मों के रास्ते अलग हैं लेकिन लक्ष्य सबका एक है। सभी धर्म सहिष्णुता की बात करते हैं। विश्व बंधुत्व की बात करते हैं। सनातन धर्म में कट्टरता को कोई स्थान नहीं है। इसलिए कट्टर हिंदू हो या मुस्लिम, मैं दोनों का विरोधी हूं। मुख्यमंत्री रहते मैंने दोनों तरह की कट्टरता के खिलाफ कार्रवाई की है। सभी धर्माें का आदर करना ही सनातन धर्म है और आरएसएस सनातन धर्म के खिलाफ है इसलिए मैं उसके खिलाफ बोलता हूं।

    राजमाता से न मिलतीं तो कांग्रेस में होतीं उमा

    दिग्विजय सिंह ने उमा भारती से संबंधित सवाल पर कहा कि मैं उन्हें बचपन से जानता हूं। जब मैं नगर पालिका अध्यक्ष था, तब वे हमारे घर राघौगढ़ आई थीं। तब वे विहिप का काम करती थीं। वे कांग्रेस में आने वाली थीं। पूरी बात हो गई थी। लेकिन जब वे भाेपाल आ रही थीं तो ग्वालियर में राजमाता विजयाराजे सिंधिया को बताने पहुंच गईं और राजमाता ने उन्हें जनसंघ या भाजपा ज्वाइन करा दी।

    मेरे पिता और मैं कभी संघ में नहीं रहे

    दिग्विजय ने कहा कि कुछ लोग प्रचार करते हैं कि मेरे पिता हिंदू महासभा में थे, यह पूरी तरह से गलत है। वे निर्दलीय चुनाव जरूर जीते थे। इसी प्रकार मुझे भी जनसंघ अथवा संघ का बता दिया जाता है जबकि मैं कभी संघ में नहीं रहा। हां, नगर पालिका अध्यक्ष रहते एक बार राघौंगढ़ में मैं संघ के कार्यक्रम में हिस्सा लेने जरूरत चला गया था।

     

    और भी...

  • मध्यप्रदेश के कई जिलों में बारिश का दौर जारी, कुछ जगह गिरे ओले, दो दिन ऐसा ही रहेगा मौसम,

    मध्यप्रदेश के कई जिलों में बारिश का दौर जारी, कुछ जगह गिरे ओले, दो दिन ऐसा ही रहेगा मौसम,

    भोपाल। भोपाल, सागर एवं ग्वालियर संभागों के कई जिलों में बारिश का दौर आज भी जारी रहा। कुछ स्थानों पर ओले भी गिरे। बारिश का यह सिलसिला आगे दो दिन और जारी रहने की संभावना है। भोपाल, सीहोर, छतरपुर, पन्ना सहित लगभग एक दर्जन जिलों में बारिश हुई। बारिश से जहां कई फसलों काे फायदा हुआ तो ओले और बारिश के कारण कई जगह फसलों का नुकसान भी हुआ। मध्यप्रदेश सरकार सर्वे कराकर किसानों को शीघ्र राहत पहुंचाने की तैयारी में है। बारिश थमने और आसमान साफ होने के बाद ठंड बढ़ने की आसार हैं।

    कहीं तेज तो कहीं होगी हल्की बारिश

    मौसम विभाग के अनुसार अगले 6 घंटे के दौरान भोपाल, रायसेन, विदिशा, सागर, दतिया, श्योपुरकलां, मुरैना, भिंड, टीकमगढ़, निवाड़ी, छतरपुर और पन्ना में कहीं-कहीं तेज बारिश के साथ ओले गिर सकते हैं। इसके अलावा श्योपुर, सीहोर, अशोकनगर, गुना, होशंगाबाद, नरसिंहपुर, दमोह, कटनी, रीवा और सतना में कहीं-कहीं हल्की बारिश हो सकती है।

     

    और भी...

  • भोपाल, इंदौर सहित नौ जिलों में हुई झमाझम बारिश, बादल छटने के बाद बढ़ेगी ठंड

    भोपाल, इंदौर सहित नौ जिलों में हुई झमाझम बारिश, बादल छटने के बाद बढ़ेगी ठंड

    भोपाल। आखिर मौसम विभाग की भविष्यवाणी सच साबित हुई। 6-7 जनवरी की दरम्यानी रात से मध्यप्रदेश के इंदौर और भोपाल में भी बारिश का दौर शुरू हो गया। प्रदेश के 9 जिलों में बारिश की खबर है। 10 जनवरी तक अलग-अलग जिलों में बारिश का दौर जारी रहेगा। कई जगह ओले भी गिरे हैं। इससे सरसों, धनिया सहित कई फसलों काे भारी नुकसान हुआ है। 10 के बाद बाटलों के छटते ही कड़ाके की ठंड का दौर शुरू हो जाएगा

    यहां बारिश की संभावना

    रायसेन, सीहोर, विदिशा और सागर में तेज बारिश होने की संभावना है। यहां पर ओले भी गिर सकते हैं। प्रदेश में अगले कुछ घंटे कई इलाकों में बारिश होगी। इसका ज्यादा असर इंदौर और भोपाल संभाग और आसपास के इलाकों में रहेगा। धार, बड़वानी, खरगोन, हरदा, खंडवा, शाजापुर, सीधी, दमोह और टीकमगढ़ में कहीं-कहीं हल्की बारिश हो सकती है।

    तापमान में उतार-चढ़ाव

    मौसम के बदलते रुख के कारण प्रदेश के तापमान में उतार-चढ़ाव जारी है। इंदौर में दिन का तापमान सामान्य से 4 डिग्री सेल्सियस कम होकर 23 डिग्री सेल्सियस हो गया। भोपाल में बादल छाने से दिन का पारा 4 डिग्री सेल्सियस बढ़कर 28 डिग्री सेल्सियस के पार पहुंच गया। दिन के तापमान में सबसे ज्यादा गिरावट ग्वालियर में दर्ज की गई। यह सामान्य से 8 डिग्री गिरकर 14 डिग्री सेल्सियस तक आ गया।

     

    और भी...

  •  दमोह में होटल एवं शराब के कारोबारियों पर आयकर विभाग का छापा, स्थानीय पुलिस को नहीं लगी भनक

    दमोह में होटल एवं शराब के कारोबारियों पर आयकर विभाग का छापा, स्थानीय पुलिस को नहीं लगी भनक

    भोपाल। मध्यप्रदेश के दमोह में होटल एवं शराब का कारोबार करने वाले कमल राय और शंकर राय के ठिकानों पर गुरुवार की सुबह आयकर विभाग की टीम ने अचानक धावा बोल दिया। दमोह की पुलिस तक को इसकी भनक नहीं लगी। परिवार में झड़प हाेने पर बाद में जरूरत पड़ने पर पुलिस बुलाना पड़ी। छापे के दौरान एक महिला की तबियत खराब हो गई, उन्हें पास के एक निजी चिकित्सालय में भर्ती कराया गया। छापे अर्थात सर्चिंग की कार्रवाई क्यों हुई और क्या मिला, खबर लिखे जाने तक इसकी जानकारी नहीं मिल सकी थी। राय परिवार के होटल, शराब, बस ट्रांसपोर्ट के अलावा और भी कई कारोबार हैं।

     

    और भी...

  • संत के बाद कथावाचक तरुण मुरारी ने गांधी को कहा राष्ट्रद्रोही, प्रकरण दर्ज हुआ तो बोला...

    संत के बाद कथावाचक तरुण मुरारी ने गांधी को कहा राष्ट्रद्रोही, प्रकरण दर्ज हुआ तो बोला...

    भोपाल। देश की आजादी में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले महात्मा गांधी के लिए अपशब्द कहने का सिलसिला जारी है। संत कालीचरण के बाद मप्र के नरसिंहपुर में एक कथावाचक तरुण मुरीरी ने गांधी को राष्ट्रद्रोही कह डाला। वे यहीं नहीं रुके, उन्होंने कहा कि गांधी न महात्मा हैं और न ही राष्ट्रपिता। वे तो देश के दो टुकड़े करने वाले हैं। हालांकि बाद में जब उन्हें पता चला कि उनके खिलाफ प्रकरण दर्ज हो गया है तो माफी मांगने में भी उन्होंने देर नहीं की। तरुण ने कहा कि उन्हें गांधी के लिए ऐसा नहीं बोलना चाहिए था। बता दें, कथावाचक नरसिंहपुर में छिंदवाड़ा रोड स्थित वीरा लॉन में श्रीमद्भागवत कथा कर रहे थे। कांग्रेस ने पुलिस अधीक्षक से शिकायत की। जांच के बाद स्टेशन थाने में कथावाचक पर केस किया गया है।

    लग चुका अप्राकृतिक कृत्य का आरोप

    तरुण मुरारी उर्फ रमेश गौड़ पर अप्राकृतिक कृत्य का आरोप लग चुका है। 6 मार्च 2017 में राजगढ़ जिले के सारंगपुर थाने में 12वीं के स्टूडेंट ने केस कराया था। तरुण ने सारंगपुर के कॉलेज से ग्रेजुएशन किया है।