ब्रेकिंग न्यूज़
  • सपा के खिलाफ बीजेपी ने सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया, पार्टी का पंजीकरण रद्द करने की मांग
  • जल्द ही भारत में तैयार होगी ओमिक्रॉन वैक्सीन, ये कंपनी कर रही तेजी से काम
  • Ashes 2022: ऑस्ट्रेलिया ने जमाया एशेज सीरीज पर कब्जा, इंग्लैंड को दी 146 रनों से शिकस्त
  • उत्तराखंड के कैबिनेट मंत्री हरक सिंह भाजपा से निष्कासित
  • Twin Tower : नोएडा में ट्विन टावर को मुंबई की कंपनी गिराएगी
  • आज वर्ल्ड इकोनोमिक फोरम को PM Modi करेंगे संबोधित, जानें कौन-कौन से देश लेंगे हिस्सा
  • पिछले 24 घंटे में 2 लाख 58 हजार कोरोना के नए मामले, देशभर में सक्रिय मरीज 16 लाख तो 385 की मौत

दुनिया

  • ओमिक्रॉन के बढ़ते मामलों के बीच यूएस ने दी Pfizer की गोली को मंजूरी, नए वैरिएंट पर भी है प्रभावी

    ओमिक्रॉन के बढ़ते मामलों के बीच यूएस ने दी Pfizer की गोली को मंजूरी, नए वैरिएंट पर भी है प्रभावी

    भारत और अमेरिका समेत दुनिया के देशों में कोरोना वायरस का नया वैरिएंट ओमिक्रॉन (Omicron) तेजी से अपने पैर पसार रहा है। दुनिया में बढ़ते कोरोना के मामलों के बीच अमेरिका ने फाइजर (Pfizer's) की कोविड 19 गोली (Covid 19 tablet) को घरेलू इस्तेमाल के लिए मंजूरी दे दी है। गाली बनाने वाली फाइजर कंपनी ने कहा है कि ये कोरोना मरीजों के लिए फायदेमंद है और नए वैरिएंट ओमिक्रॉन (New Variant Omicron) पर भी प्रभावी है। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, बीते बुधवार को फाइजर इंक (Pfizer Inc) ने कहा कि अमेरिकी खाद्य व औषधि प्रशासन (US Food and Drug Administration) ने एंटीवायरल कोविड-19 गोली (antiviral Covid-19 pill) को मंजूरी दे दी है। दावा है कि यह गोली वायरस को तेजी से फैलने से रोकती है। जानकारी के अनुसार, फाइजर के क्लिनिकल परीक्षण (Pfizer's clinical trials) के आंकड़ों से जानकारी मिली है कि इसकी दो-दवाएं एंटीवायरल रेजिमेन गंभीर बीमारी वाले रोगियों पर प्रभावी थीं।

    अस्पताल में भर्ती (hospitalization) होने और मृत्यु (death) को रोकने में 90 प्रतिशत प्रभावी (90 percent effective) थीं। हाल के लैब (labs) से मिले आंकड़ों से सामने आया है कि यह दवा कोरोना के नए वैरिएंट ओमिक्रॉन पर भी प्रभावी है। यह दवा ज्यादा गंभीर मरीजों और कम से कम 12 साल के मरीजों के इलाज के लिए इस्तेमाल की जा सकेगी। दवा लेने के लिए बच्चों (Children) का वजन कम से कम 40 किलो (40 kg) होना चाहिए। फाइजर कंपनी (Pfizer Company) का कहना है कि वह अमेरिका (US) में तुरंत डिलीवरी शुरू करने के रैडी है। हमने साल 2022 में अपने प्रोडक्शन को 80 मिलियन से बढ़ाकर 120 मिलियन तक करने की तैयारी है। फाइजर दवा (drug Pfizer) की 10 मिलियन खुराक के लिए अमेरिकी सरकार ने अनुबंध किया है। इसकी कीमत $530 प्रति कोर्स रखी गई है।
     

    और भी...

  • ओमिक्रॉन वेरिएंट पर कितनी असरदार है मॉडर्ना वैक्सीन, किया ये बड़ा दावा

    ओमिक्रॉन वेरिएंट पर कितनी असरदार है मॉडर्ना वैक्सीन, किया ये बड़ा दावा

    कोरोना वायरस (Coronavirus) के नए वेरिएंट ओमिक्रॉन (Omicron) ने दुनिया के कई देशों में तहलका मचा दिया है और लोगों के लिए नई पेशानी फिर से खड़ी कर दी है। ऐसे में अमेरिकी औषधि विनिर्माता मॉडर्ना (Moderna ) ने एक बड़ा दावा किया है। इससे पहले विश्व स्वास्थ्य संगठन ने चेतावनी दी थी कि ओमिक्रॉन को हलके में न लें और अभी भारत में तीसरी लहर को लेकर चेतावनी दे दी गई है। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, मॉडर्ना ने दावा करते हुए कहा कि उनकी वैक्सीन का बूस्टर डोज ओमिक्रॉन के खिलाफ कारगर है। मॉडर्ना का कहना है कि इसकी बूस्टर खुराक ओमिक्रॉन के खिलाफ एंटीबॉडी के स्तर को 37 गुना बढ़ा देती है। मॉडर्न इंक ने सोमवार को कहा कि उसकी कोविड वैक्सीन की एक बूस्टर खुराक तेजी से फैल रहे ओमिक्रॉन वेरिएंट के खिलाफ लैब में हुए टेस्टिंग के दौरान असरदार दिखी है। वैक्सीन मॉडर्न ओमिक्रॉन के खिलाफ पूरी तरह से असरदार है।

    वैक्सीन निर्माता कंपनी ने कहा कि हाल ही में पेश किए गए वेरिएंट के तेजी से प्रसार की वजह से वैक्सीन को लेकर टेस्टिंग की गई थी। हालांकि कंपनी अभी भी विशेष रूप से ओमिकॉन से बचाव के लिए एक टीका विकसित करने की योजना बना रही है। ​​इस बीच डब्ल्यूएचओ ने ओमाइक्रोन को तेजी से फैलने वाला वेरिएंट बताया। इसके साथ ही यह भी कहा गया है कि ओमिक्रॉन वैक्सीन की प्रभावशीलता को कम कर सकता है। इसके साथ ही यूके में ओमिक्रॉन के मामले बहुत तेजी से बढ़ रहे हैं। जिससे यूके सरकार की चिंता बढ़ गई है। जानकारी के लिए बता दें कि भारत के 12 राज्यों में अब तक ओमिक्रॉन के 161 मामले सामने आ चुके हैं। हालांकि इनमें से किसी भी मरीज की हालत गंभीर नहीं है। कुल 42 लोग पूरी तरह से ठीक हो चुके हैं। ताजा आंकड़ों की बात करें तो महाराष्ट्र में 54 और दिल्ली में 32 मामले सामने आ चुके हैं, जो सबसे ज्यादा हैं।
     

    और भी...

  • नीरव मोदी के प्रत्यर्पण मामले में आज UK हाईकोर्ट में होगी सुनवाई

    नीरव मोदी के प्रत्यर्पण मामले में आज UK हाईकोर्ट में होगी सुनवाई

    बैंक धोखाधड़ी (Bank Fraud) मामले में भगोड़े हीरा कारोबारी नीरव मोदी (Nirav Modi) की प्रत्यर्पण अपील पर ब्रिटेन हाईकोट (UK High Court) मानसिक स्वास्थ्य और मानवाधिकारों (mental health and human rights) के आधार पर सुनवाई करेगा। भगोड़े हीरा कारोबारी नीरव मोदी (Fugitive diamantaire Nirav Modi) को इस वर्ष अगस्त के महीने की शुरुआत में इस आधार पर धोखाधड़ी (Fraud) के आरोपों का सामना करने के लिए ब्रिटेन (UK- यूके) से भारत में उसके प्रत्यर्पण के खिलाफ अपील करने की अनुमति दी गई थी कि भारत लौटने से उसके मानसिक स्वास्थ्य को नुकसान होगा और उसे सुसाइड का खतरा होगा। कारोबारी (businessman) के वकीलों ने लंबे समय से तर्क दिया था कि उनके मुवक्किल गंभीर अवसाद से पीड़ित हैं। यदि उन्हें कोर्ट (Court) में पेश होने तक देश की आर्थिक राजधानी मुंबई (Mumbai) की आर्थर रोड जेल में कैद किया जाता है तो उन्हें पर्याप्त मेडिकल (Medical) देखभाल नहीं मिलेगी।
     

    मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, उन्होंने यह भी कहा कि साल 2019 में मार्च के महीने में लंदन में उनकी गिरफ्तारी और कोरोना वायरस के दौरान जेलों पर लगाए गए सख्त प्रतिबंधों के बाद दक्षिण लंदन के वैंड्सवर्थ जेल में नीरव मोदी की मानसिक स्वास्थ्य की स्थिति ज्यादा बिगड़ गई थी। कई चिकित्सा विशेषज्ञों को भी इस बात का सबूत देने के लिए पेश किया था कि कोरोबारी नीरव मोदी को सुसाइड बड़ा खतरा था। बता दें कि नीरव मोदी पर पंजाब नेशनल बैंक से 2 बिलियन अमरीकी डालर से अधिक की धोखाधड़ी करने का आरोप लगा है। भारत सरकार ने उन पर गवाहों को डराने-धमकाने और सबूतों को नष्ट करने का भी आरोप लगाया है।

     

    और भी...

  • Earthquake in Indonesia: इंडोनेशिया में 7.6 की तीव्रता से आया भूकंप, खतरनाक सुनामी लहरों की चेतावनी

    Earthquake in Indonesia: इंडोनेशिया में 7.6 की तीव्रता से आया भूकंप, खतरनाक सुनामी लहरों की चेतावनी

    पूर्वी इंडोनेशिया (Eastern Indonesia) आज भूकंप (Earthquake) के तेज़ झटके महसूस किए गए हैं। रिक्टर स्केल (Richter Scale) पर भूकंप की तीव्रता 7.3 मापी गई है। मौसम विज्ञान एजेंसी ने कहा है कि इंडोनेशिया (Meteorological Agency) के फ्लोरेस द्वीप के पास समुद्र में भूकंप आया है। सुनामी के आने की संभावना को देखते हुए अलर्ट जारी किया गया है। अमेरिकी भूवैज्ञानिक सर्वेक्षण का कहना है कि मॉनिटर ने खतरनाक सुनामी लहरों की आशंका की चेतावनी दी है। भूकंप फ्लोर्स सागर में 18.5 किमी की गहराई पर मौमेरे शहर के उत्तर में करीब 100 किमी दूर आया है। इस तेज तीव्रता से आए भूकंप में अभी तक किसी बड़े जान-माल के नुक्सान की खबर सामने नहीं आई है।


    राष्ट्रीय आपदा न्यूनीकरण (प्रबंधन) एजेंसी के प्रवक्ता अब्दुल मुहारी का कहना है कि ईस्ट नुसा टेंग्गारा सूबे में मउमेरे दूसरा सबसे बड़ा शहर है। इस शहर की आबादी लगभग 85 हजार है। यहां के रहने वाले लोगों ने भूकंप के जोरदार झटके महसूस किए हैं



     

    प्रवक्ता अब्दुल मुहारी ने आगे कहा कि भूकंप के कारण जानमाल के नुकसान की कोई खबर नहीं है। बता दें कि इंडोनेशिया करीब 27 करोड़ लोगों की आबादी वाला एक बड़ा द्वीपसमूह है। इस विशाल द्वीपसमूह पर अधिक्तर भूकंप, ज्वालामुखी विस्फोट और सूनामी का खतरा बना रहता है। गौरतलब है कि इंडोनेशिया अक्सर लगातार भूकंप और ज्वालामुखी विस्फोट का अनुभव करता रहा है। इंडोनेशिया में सबसे घातक भूकंप साल 2004 में आया था। उस दौरान भूकंप की तीव्रता 9.1 मापी गई थी। इसमें इंडोनेशिया में बड़ा नुक्सान हुआ था।

     

    और भी...

  • Miss Universe 2021: जानिए किस सवाल का जवाब देकर हरनाज संधू ने जीता मिस यूनिवर्स का खिताब

    Miss Universe 2021: जानिए किस सवाल का जवाब देकर हरनाज संधू ने जीता मिस यूनिवर्स का खिताब

    सोमवार हमारे देश के लिए बहुत लकी साबित हुआ है, आज इंडिया की हरनाज संधू (Harnaaz Sandhu) ने मिस यूनिवर्स (Miss Universe) का खिताब जीता है। हरनाज संधू ने 21 साल बाद इस मिस यूनिवर्स पेजेंट 2021 (Miss Universe 2021) में इंडिया को ये जीत दिलाई है। हरनाज संधू को ये ताज मैक्सिको की पूर्व मिस यूनिवर्स 2020 एंड्रिया मेजा (Andrea Meza) ने पहनाया है। लारा दत्ता (Lara Dutta) के जीतने के 21 साल बाद, दुनिया भर के लगभग 80 कंटेस्टेंट्स को पीछे छोड़ते हुए हरनाज ने ये ताज अपने नाम किया है। इस कॉन्टेस्ट में पॉलिटिक्स और महामारी से जुड़े कई सवाल पूछे गए।

    इस सवाल का जवाब देकर जीता मिस यूनिवर्स का खिताब

    हरनाज ने सभी सवालों का बड़ी ही खूबसूरती और विस्तृत जवाब दिया। हरनाज से युवा महिलाओं को एक सलाह देने को लेकर भी एक सवाल किया गया था। उनसे जजस की एक पैनल ने पूछा, "आज के दबावों से निपटने के लिए युवा महिलाओं को आप क्या सलाह देंगे?" इस सवाल का जवाब देते हुए मिस यूनिवर्स इंडिया ने युवा लड़कियों को सलाह देते हुए कहा कि वे किसी से न डरें और दूसरों से अपनी तुलना करने की आदत बनाना बंद करें। देखें वीडियो...

     

     
     
     
     
     
     
     
     
     
     
     
     
     
     
     
     

    A post shared by Miss Universe (@missuniverse)

    उन्होंने कहा, "आज का युवा जिस सबसे बड़े दबाव का सामना कर रहा है, वह खुद पर विश्वास करने का है। यह जानने के लिए कि आप यूनिक हैं, आपको सुंदर बनाता है। दूसरों के साथ अपनी तुलना करना बंद करें और दुनिया भर में हो रही अधिक महत्वपूर्ण चीजों के बारे में बात करें। बाहर आएं, अपने लिए बोलें, क्योंकि आप अपनी लाइफ के लीडर हैं। आप अपनी ही आवाज हैं। मुझे खुद पर विश्वास था और इसलिए मैं आज यहां खड़ी हूं। इसके बाद जब बतौर विनर उनका नाम अनाउंस किया गया तो वह काफी इमोशनल हो गईं, देखें वीडियो...



    कौन है हरनाज संधू अब तक जीते हैं कई खिताब

     

    21 साल की हरनाज संधू एक सिख परिवार से हैं, उनका पालन पोषण चंडीगढ़ में हुआ है। उन्होंने चंडीगढ़ में शिवालिक पब्लिक स्कूल और पोस्ट ग्रेजुएट गवर्नमेंट कॉलेज फॉर गर्ल्स में पढ़ाई की है। संधू ने टीनेज में इन पेजेंट में हिस्सा लेना शुरु कर दिया था। उन्होंने साल 2017 में मिस चंडीगढ़ (Miss Chandigarh) और साल 2018 में मिस मैक्स इमर्जिंग स्टार इंडिया (Miss Max Emerging Star India 2018) का खिताब जीता था। फिर साल 2019 में फेमिना मिस इंडिया पंजाब (Femina Miss India Punjab) का खिताब जीतने के बाद, संधू ने फेमिना मिस इंडिया 2019 (Femina Miss India 2019) में भाग लिया, जहां वह सेमिफाइनलिस्ट रही थी और उन्होंने टॉप 12 कंटेस्टेंट में अपनी जगह बनाई थी। इसके बाद संधू मिस यूनिवर्स का खिताब जीतने वाली तीसरी महिला बनी हैं। वह मिस यूनिवर्स के तौर पर न्यूयॉर्क शहर में रहेंगी और दुनिया भर के कई कार्यक्रमों में भाग लेंगी।

    और भी...

  • Miss Universe 2021: भारत की Harnaaz Sandhu बनीं मिस यूनिवर्स, इतने साल बाद देश के पास आया खिताब

    Miss Universe 2021: भारत की Harnaaz Sandhu बनीं मिस यूनिवर्स, इतने साल बाद देश के पास आया खिताब

    भारत की हरनाज संधू (Harnaaz Sandhu) ने मिस यूनिवर्स 2021 (Miss Universe 2021) का खिताब जीत कर देश का नाम ऊंचा कर दिया है। हरनाज़ संधू को मिस यूनिवर्स 2021 का ताज पहनाया गया है। ये तीसरी बार है जब किसी भारतीय को ये खिताब मिला हो, इससे पहले सुष्मिता सेन और लारा दत्ता ने भारत के लिए मिस यूनिवर्स का खिताब जीता था। 21 साल की हरनाज ने मिस यूनिवर्स के 70वें एडिशन ते टॉप 3 फाइनलिस्ट में एंट्री की थी। मिस यूनिवर्स का ये कॉन्टेस्ट इज़राइल के इलियट में आयोजित किया गया था।

    हरनाज के साथ टॉप 3 में पहुंचने वाली कन्टेस्टेंट पैराग्वे और साउथ अफ्रीका से थी। इस प्रोग्राम में संधू को मेक्सिको की पूर्व मिस यूनिवर्स 2020 एंड्रिया मेजा ने ताज पहनाया। मिस यूनिवर्स का खिताब जीतने के बाद उनका एक वीडियो सोशल मीडिया पर आया है। ये वीडियो इंस्टाग्राम पर मिस यूनिवर्स के ऑफिशियल अकाउंट से शेयर किया गया है।

     

     
     
     
     
     
     
     
     
     
     
     
     
     
     
     
     

    A post shared by Miss Universe (@missuniverse)

    इस शो में भारत की उर्वशी रौतेला जज करने के लिए पहुंची थी।

    और भी...

  • अब इस टीम में हुआ कोरोना विस्फोट, Covid की चपेट में 8 खिलाड़ियों के साथ 5 स्टाफ मेंबर

    अब इस टीम में हुआ कोरोना विस्फोट, Covid की चपेट में 8 खिलाड़ियों के साथ 5 स्टाफ मेंबर

    कोरोना वायरस (corona virus) ने पूरी दुनिया को परेशान कर रखा है। आए दिन इससे कई लोग मर रहे हैं। वहीं एक बार फिर कोरोना के नए वेरिएंट ओमिक्रॉन (omicron) ने पूरी दुनिया में कहर बरसा रखा है। इसके साथ ही इंग्लिश प्रीमियर लीग (EPL) की टीम टोटेनहैम के मैनेजर एंटोनियों कोंटे ने अपनी टीम के 8 खिलाड़ी और 5 स्टाफ सदस्यों के कोरोना पॉजिटिव होने की खबर की पुष्टि की।

    वहीं कोंटे ने इस पूरी स्थिति को गंभीर बताते हुए कहा कि हर दिन कोरोना से संक्रमित लोग सामने आ रहे हैं। साथ ही उन्होंने कहा कि निश्चित तौर पर हम थोड़े डरे हुए हैं क्योंकि हमें पता नहीं है कि आगे क्या होने वाला है।

    हालांकि, अभी ये साफ नहीं हो पाया है कि टोटेनहैम के खिलाड़ियों और सदस्यों में कोरोना वायरस के नए वेरिएंट ओमिक्रॉन का संक्रमण है। साउथ अफ्रीका के इस नए वेरिएंट ने पूरी दुनिया में डर का माहौल बना दिया है। एक बार फिर पूरी दुनिया पर कोरोना का साया पड़ा है, ब्रिटेन में तो सबसे ज्यादा मामले सामने आए हैं।

    बता दें कि मंगलवार को टीम के कई खिलाड़ियों के अलावा कोचिंग स्टाफ के सदस्यों का पीसीआर टेस्ट किया गया था। जिसके बाद 8 खिलाड़ियों के साथ 5 स्टाफ कोचिंग सदस्यों के पॉजिटिव होने की खबर है। वहीं इस खबर से पूरी दुनिया के साथ ही ईपीएल मुकाबलों की अन्य टीमों को भी झटका लगा है।

    और भी...

  • म्यांमार की सेना की तानाशाही- 11 ग्रामीणों को जिंदा जलाया, इतने बच्चे भी थे शामिल

    म्यांमार की सेना की तानाशाही- 11 ग्रामीणों को जिंदा जलाया, इतने बच्चे भी थे शामिल

    म्यांमार की सेना (Myanmar's military) की तानाशाही बढ़ती ही जा रही है। म्यांमार (Myanmar) की सेना ने ग्रामीणों पर जमकर कहर बरपाया है। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, म्यांमार की सेना ने 5 बच्चों सहित 11 ग्रामीणों को दर्दनाक मौत दी है। सेना ने सभी को जिंदा जला कर मार दिया। म्यांमार के उत्तर-पश्चिम के सगाइंग क्षेत्र के डॉन ताव गांव में जले हुए शवों की तस्वीरें और वीडियो सोशल मीडिया पर वायल हुई हैं। जिसके बाद इस घटना की जानकारी सामने आई।

    गौरतलब है कि इस साल फरवरी के महीने में म्यांमार में तख्तापलट के बाद से इस क्षेत्र में सैन्य शासन के विरोधियों के द्वारा स्थापित जुंटा की सेना और मिलिशिया के बीचर लड़ाई देखी गई। सोशल मीडिया पर वायरल हुए वीडियों में देखा गया है कि सेना ने पहले गांव के लोगों को इक्ट्ठा किया फिर उनके हाथ बांध दिए। इसके बाद सेना के जवानों ने सभी को आग के हवाले कर दर्दनाक मौत दे दी।

    मीडिया में आईं खबरों के मुताबिक, यूएन के प्रवक्ता स्टीफन दुजारिक ने लोगों को जिंदा जलाकर उनकी हत्या करने की रिपोर्ट पर दुख व्यक्त किया है। और इस तरह की हिंसा की कड़ी निंदा की है। साथ ही प्रवक्ता ने कहा कि रिपोर्टों से संकेत मिलता है कि मारे गए 11 लोगों में 5 बच्चे भी शामिल थे।

    हालांकि, 11 लोगों की मौत कैसे हुई है इस बारे में स्वतंत्र रूप से पुष्टि नहीं की जा सकी है। रिपोर्ट्स के मुताबिक, यह जानकारी समाचार एजेंसी एसोसिएटेड प्रेस को एक व्यक्ति के द्वारा दी गई है। बताया गया है कि जानकारी देने वाला व्यक्ति घटनास्थल पर गया था। आमतौर पर स्वतंत्र म्यांमार मीडिया द्वारा की गई घटना के विवरण से मैच करता था।

    और भी...

  • न्यूयॉर्क में ओमिक्रॉन के पांच मामलों की पुष्टि, धीरे-धीरे पैर पसार रहा नया वैरिएंट

    न्यूयॉर्क में ओमिक्रॉन के पांच मामलों की पुष्टि, धीरे-धीरे पैर पसार रहा नया वैरिएंट

    कोरोना वायरस (Coronavirus) का नया वैरिएंट ओमिक्रॉन (Omicron) धीरे-धीरे दुनिया में अपने पैर पसार रहा है। अमेरिका (America) के न्यूयॉर्क (New York) शहर में कोरोना वायरस के नये वैरिएंट ओमिक्रॉन के पांच मामले सामने आए हैं। न्यूयॉर्क ने ओमिक्रॉन के पांच मामलों की पुष्टि की है। न्यूयॉर्क राज्य के राज्यपाल ने शुक्रवार को एक ट्वीट करते हुए बताया कि मैं स्पष्ट कर दूं: यह भय का कारण नहीं है। हमें पता था कि यह वैरिएंट आ रहा है।

    हमारे पास इसके प्रसार को रोकने के लिए उपकरण हैं। वैक्सीन लगवाएं और अपना बूस्टर प्राप्त करें। अपना मास्क जरूर पहनें, लापरवाही कतई न करें। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, न्यूयॉर्क से पहले अमेरिका में कोविड-19 के वैरिएंट ओमिक्रॉन से संक्रमण के अन्य मामले मिनेसोटा, कोलोराडो राज्य में सामने आए हैं। जबकि पहले मामले की पुष्टि कैलिफोर्निया राज्य में हुई थी।

    विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने 25 नवंबर को दक्षिण अफ्रीका में सामने आए पहली बार कोरोना वायरस के नए वैरिएंट ओमिक्रॉन की सूचना दी थी। डब्ल्यूएचओ के अनुसार, इस साल 9 नवंबर को एकत्र किए गए एक नमूने से बी.1.1.529 वैरिएंट के पहले मामले की पुष्टि हुई थी।

    डब्ल्यूएचओ ने 26 नवंबर को नए कोविड-19 वैरिएंट को B.1.1.529 का नाम दिया। जिसे दक्षिण अफ्रीका में 'ओमिक्रॉन' के रूप में पाया गया है। डब्ल्यूएचओ ने ओमिक्रॉन को 'चिंता के प्रकार' के रूप में वर्गीकृत किया है। दक्षिण अफ्रीका में 'ओमिक्रॉन' का केस सामने आने के बाद दर्जनों देशों ने दक्षिणी अफ्रीकी देशों पर यात्रा प्रतिबंध लगा दिए हैं।

    और भी...

  • क्या साउथ अफ्रीका से पहले नीदरलैंड की जमीन पर पहुंचा था कोरोना का नया वेरिएंट Omicron, जानें सच

    क्या साउथ अफ्रीका से पहले नीदरलैंड की जमीन पर पहुंचा था कोरोना का नया वेरिएंट Omicron, जानें सच

    दुनिया में कोरोना के नए वेरिएंट ओमीक्रोन (Omicron) को लेकर एक बड़ा खुलासा हुआ है। दावा किया जा रहा है कि साउथ अफ्रीका (South Africa) में ओमिक्रॉन के पहले मरीज के मिलने से पहले ही नीदरलैंड (Netherland) की जमीन पर ये वायरस मिल गया था। नीदरलैंड के एक मेडिकल इंस्टीट्यूट की तरफ से ये दावा किया गया है कि ये ओमिक्रॉन नीदरलैंड की धरती पर पहले से ही था। लेकिन अभी तक किसी ने भी पुष्टि नहीं कि है कि आखिर ये वायरस कैसे और कहां से फैला।

    मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, साउथ अफ्रीका में पहले मामले को लेकर अधिकारियों ने कहा कि यहां कोई मरीज नहीं था उससे पहले ही ओमिक्रॉन वेरिएंट वेस्टर्न यूरोप में फैल रहा था। ऐसे में एक डर पैदा हुआ है कि अभी तक इस वायरस ने कितना नुकसान पहुंचाया है।

    सीबीएस न्यूज की रिपोर्ट के मुताबिक, नीदरलैंड के आरआईवीएम स्वास्थ्य संस्था ने 19 नवंबर को कोरोना के नमूनों के डेटा के दौरान नए म्यूटेंड स्ट्रेन की जानकारी मिली थी। उससे कुछ दिनों पहले ही साउथ अफ्रीका की मेडिकल अथॉरिटी ने B.1.1.529 वेरिएंट की बारे में सूचित कर दिया ता, जिसे अब ओमिक्रॉन के नाम से जाना जा रहा है। इसकी जानकारी विश्व स्वास्थ्य संगठन को भी दी गई थी।

    आरआईवीएम ने मंगलवार को कहा कि एक विशेष पीसीआर टेस्ट के दौरान लिए गए नमूनों में स्पाइक प्रोटिन असामान्य दिखा था। जिसने चिंता बढ़ा थी कि यही ओमिक्रॉन हो सकता है। डच स्वास्थ्य अधिकारियों ने पहले ही संक्रमित व्यक्तियों को सूचित कर दिया है और कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग शुरू कर दी गई। पिछले कोविड टेस्ट रिजल्ट से अधिक नमूनों की फिर से जांच की जाएगी और ओमिक्रॉन वेरिएंट के प्रसार का अध्ययन किया जाएगा।

    साफ तौर पर नीदरलैंड ने ओमिक्रॉन वेरिएंट के अपने पहले मामलों का पता तब लगाया जब दक्षिण अफ्रीका से एक उड़ान 28 नवंबर को एम्स्टर्डम हवाई अड्डे पर उतरी थी। जबकि साउथ अफ्रीका ने 24 नवंबर को ही डब्ल्यूएचओ को सूचित कर दिया था। नीदरलैंड में लिए गए नमूनों की टेस्टिंग में जानकारी मिली थी। नीदरलैंड में 19 नवंबर से 23 नवंबर के बीच लिए गए नमूनों में ओमिक्रॉन वेरिएंट की जानकारी मिल गई थी।

    और भी...

  • मिशिगन के एक हाई स्कूल में फायरिंग, 3 छात्रों की मौत और 6 लोग घायल- राष्ट्रपति ने दिया ये बयान

    मिशिगन के एक हाई स्कूल में फायरिंग, 3 छात्रों की मौत और 6 लोग घायल- राष्ट्रपति ने दिया ये बयान

    संयुक्त राज्य अमेरिका (United States of America- यूएसए) में मिशिगन (Michigan) के एक हाई स्कूल (high school) में एक 15 वर्षीय छात्र ने अंधाधुंध गोलीबारी (opened fire) की। इस घटना में तीन छात्रों की मौत हो गई और 6 लोग घायल हो गए। घायलों में एक अध्यापक भी शामिल है। पुलिस ने गोलीबारी करने वाले 15 वर्षीय छात्र को हिरासत में ले लिया है। इस बात की जानकारी समाचार एजेंसी रॉयटर्स के द्वारा दी गई है।

    समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक, इस गोलीबारी की घटना पर अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडेन ने दुख व्यक्त किया है। साथ ही उन्होंने अपने प्रियजन को खोने के अकल्पनीय दुख को सहन करने वाले परिवारों के प्रति संवेदना व्यक्त की है।

    राष्ट्रपति बिडेन ने कहा कि मिशिगन के एक स्कूल में गोली लगने के बाद 3 छात्रों की मौत हो गई और 6 लोग घायल हो गए। पुलिस ने फायरिंग करने वाले छात्र को हिरासत में ले लिया है और उसके पास से पिस्तौल सौंप भी बरामद कर ली गई है।

    ओकलैंड काउंटी शेरिफ कार्यालय ने एक बयान में कहा कि ऑक्सफोर्ड हाई स्कूल में दोपहर बाद हुए हमले में एक शिक्षक सहित छह अन्य घायल हो गए. डेट्रॉइट से करीब 40 मील (65 किलोमीटर) उत्तर में एक छोटे से शहर ऑक्सफोर्ड में हमले को लेकर कारण स्पष्ट नहीं हो सका है।

    मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, अधिकारियों ने स्कूल में कई खाली कारतूस भी बरामद किए हैं। बताया जा रहा है कि करीब 15 से 20 राउंड गोलियां चलाई गईं हैं। संदिग्ध ने बॉडी आर्मर नहीं पहना था। पुलिस विभाग के मुताबिक, इस वारदात में हमलावर अकेले ही था। उसने गोली क्यों चलाई गई इसकी जांच की जा रही है।

    और भी...

  • दक्षिण अफ्रीका में मिले कोरोना के नये वैरिएंट से फिर बजी खतरे की घंटी, ब्रिटेन ने उठाया ये कदम

    दक्षिण अफ्रीका में मिले कोरोना के नये वैरिएंट से फिर बजी खतरे की घंटी, ब्रिटेन ने उठाया ये कदम

    दक्षिण अफ्रीका में एक बार फिर सामने आए कोरोना के नये वैरिएंट (Covid Mutated Variant) ने खतरे की घंटी बजा दी है। यह वायरस पहले के मुकाबले ज्यादा खतरनाक है। जिसको देखते हुए खतरा बढ़ गया है। वहीं अभी भी दुनिया के कई देश ऐसे हैं जो कोरोना के कहर से जुझ रहे हैं। दक्षिण अफ्रीका में सामने आये नये कोरोना वैरिएंट को देखते हुए ब्रिटेन ने 6 देशों से उड़ाने रद्द कर दी है। वहीं शेयर बाजार पर भी इसका असर पड़ा है। शुक्रवार को शेयर बाजार खुलते ही कई अंक लुढ़क गया।

    दरअसल, दक्षिण अफ्रीका में कोरोना के नये वैरिएंट ने दस्तक दी है। इस वायरस के 30 से ज्यादा मरीज मिले हैं। इसकी खबर लगते ही दूसरे देशों में भी खतरे की घंटी बज गई है। वहीं इससे सावधानी बरततें हुए यूनाइटेड किंगडम ने छह अफ्रीकी देशों में आने जाने वाली अपनी उड़ानों अनिश्चित समय के लिए रद्द कर दिया है। इसकी घोषणा यूनाइटेड किंगडम के स्वास्थ्य सचिव साजिद जाविद ने की। यूके की स्वास्थ्य सुरक्षा एजेंसी ने कहा अफ्रीका में मिलने वाला यह वैरिएंट स्पाइक प्रोटीन म्यूटेशन के साथ वायरल जीनोम के दूसरे हिस्सों में शामिल है। यह टीके, उपचार और ट्रांसमिशन को भी वायरस के रूप में बदल देता है। इसमें अभी ज्यादा जांच की जरूरत है। तब तक अहतियातन यूके ने उड़ाने रद्द करने का फैसला लिया है।

    डब्ल्यूएचओ ने बुलाई आपात बैठक

    वहीं एक अंग्रेजी अखबार की रिपोर्ट के अनुसार, विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) दक्षिण अफ्रीका में मिले नये वैरिएंट को लेकर चर्चा करने के लिए शुक्रवार को इमरजेंसी बैठक बुलाई है। वहीं यूके के वैज्ञानिकों ने बोत्सवाना में एक स्ट्रेन की उपस्थिति की चेतावनी दी है। वहीं इसका असर शुक्रवार को शेयर बाजार पर भी दिखाई दिया। कोरोना के नये वैरिएंट और लोगों के उसके चपेट में आने से लेकर अलर्ट को देखते हुए शेयर बाजार सुबह थड़ाम से कई अंक नीचे पहुंच गया है।

    और भी...

  • अफगानिस्तान में मस्जिद के अंदर बड़ा धमाका, हादसे में 12 लोग घायल

    अफगानिस्तान में मस्जिद के अंदर बड़ा धमाका, हादसे में 12 लोग घायल

    अफगानिस्तान (Afghanistan) में एक बार फिर मस्जिद (Mosque) में धमाके की खबर है। इस हमले में 12 लोग घायल बताए जा रहे हैं। पूर्वी अफगानिस्तान में नंगरहार प्रांत (Nangarhar) के स्पिन (Spin Ghar) घर इलाके में जुम्मे की नमाज के दौरान धमाका हुआ है।

    मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, शुक्रवार की नमाज के दौरान नंगरहार प्रांत में एक मस्जिद में विस्फोट हो गया। हमले में कम से कम 12 लोग घायल हो गए। इलाके के एक निवासी ने जानकारी देते हुए कहा कि विस्फोट दोपहर करीब 1.30 बजे हुआ। जब मस्जिद के अंदर जोरदार धमाका हुआ।

    पिछले महीने भी आत्मघाती हमलावरों ने दक्षिणी अफगानिस्तान में एक शिया मस्जिद पर हमला किया था। ये हमला भी शुक्रवार की नमाज के दौरान ही किया गया था। एक रिपोर्ट के मुताबिक, इस हमले में कम से कम 37 लोग मारे गए और 70 से अधिक घायल हो गए थे। इमाम बरगा मस्जिद पर हमला एक हफ्ते बाद हुआ। इस हमले को लेकर स्थानीय इस्लामिक स्टेट के ने दावा किया कि उत्तरी अफगानिस्तान में एक शिया मस्जिद में 46 लोगों की मौत हो गई।

    और भी...

  • ज्यादातर हवाई जहाज का रंग क्यों होता है सफेद, वैज्ञानिक, आर्थिक और सुरक्षा से जुड़ी है वजह

    ज्यादातर हवाई जहाज का रंग क्यों होता है सफेद, वैज्ञानिक, आर्थिक और सुरक्षा से जुड़ी है वजह

    आप ने आसमान से लेकर रन वे पर खूब हवाई जहाज (AirPlanes) देखें होंगे। इनमें सफर भी किया होगा। जहां रुपये और टिकट के हिसाब से बिजनेस, इकॉनोमी और फर्स्ट क्लास बदल जाती है, लेकिन आप ने एक चीज ज्यादातर हवाई जहाजों में एक सी देखी होगी। वह है हवाई जहाज का सफेद रंग (Air Planes White Colour)। कभी आप ने सोचा है कि हवाई जहाज का रंग सफेद ही क्यों होता है। इसके पीछे क्या वजह है। आपको इन्हीं सवालों का जवाब इस खबर में मिलेगा।

    वैज्ञानिक और आर्थिक दोनों से जुड़ा हवाई जहाज का सफेद रंग

    हवाई जहाज खुले आसमान में घंटों उड़ने के साथ ही कई कई दिनों तक रन वे पर भी खड़े रहते हैं। ऐसे में इन पर धूप पड़ना लाजमी है। लेकिन हवाई जहाज (Air Planes) में सफर करने वालों को तेज तपस और गर्मी का सामना न करना पड़े। इसके लिए हवाई जहाज पर सफेद रंग किया जाता है। जिसे थर्मल एडवांटेज मिलता है। इसके साथ ही सफेद रंग बहुत ही रिफ्लेक्टिव होता है। यह सूर्य की किरणों को दूसरी ओर रिफ्लेक्ट कर देता है। इस से प्लेन ज्यादा नहीं तप पाता। यह विमान और उसमें बैठे यात्री दोनों के लिए फायदेमंद साबित होता है। वहीं सफेद की जगह लाल, काला या कोई दूसरा रंग धूप को सोख लेता है। यही वजह है कि अक्सर तेज धूप में काले या लाल कपड़े पहनने पर गर्मी ज्यादा लगती है। इसी तरह प्लेन पर कोई दूसरा रंग करने पर उसमें लगे प्लास्टिक, कार्बन, फाइबर ग्लास जैसे पार्ट का तापमान बढ़ सकता है। जो खतरनाक साबित हो सकता है। इसके साथ ही सफेद रंग होने की वजह से हवाई जहाज को आसानी से आसमान में दिखें। इसलिए भी इसी रंग को प्राथमिकता दी जाती है। यही वजह है कि हवाई जहाज के उड़ते समय कई दुर्घटनाएं होने से बच जाती है।

    हवाई जहाज पर पेंट करने से उसका वजन बढ़ता है। ऐसे में दूसरे रंगों के मुकाबले सफेद रंग हल्का होता है। इसके साथ ही अन्य दूसरे रंग के मुकाबले सफेद रंग के प्लेन की रीसेल वैल्यू ज्यादा होती है। इसके साथ ही हवाई जहाज पर पेंट कराने का खर्च 60 हजार डॉलर से लाखों डॉलर में पहुंच जाता है। ऐसे में सफेद रंग दूसरे रंगों के मुकाबले सस्ता और कम लगता है। इसे एयरलाइंस कम बजट के लिए भी सफेद रंग को प्राथमिकता देती है।

    आसानी से दिख जाते हैं डेंट और क्रैक

    सफेद रंग में कोई डेंट और क्रैक बहुत ही आसानी से दिख जाते हैं। यह दूसरे रंगों के मुकाबले ज्यादा विजिबल होता है। इसके मुकाबले विमान पर किसी दूसरे रंगों में डेंट या कोई क्रैक आसानी से पकड़ में नहीं आता। उसे देखने के लिए अच्छा खास समय लगता है।

    और भी...

  • COP26 में भाग लेने के लिए ग्लासगो पहुंचे PM Modi, भारतीयों ने गर्मजोशी के साथ किया स्वागत

    COP26 में भाग लेने के लिए ग्लासगो पहुंचे PM Modi, भारतीयों ने गर्मजोशी के साथ किया स्वागत

    भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज सुबह तड़के 26वें कांफ्रेंस ऑफ पार्टीज (COP26) में भाग लेने के लिए यूनाइटेड किंगडम के ग्लासगो पहुंच गए हैं। पीएम मोदी दो दिवसीय यात्रा पर 1 नवंबर और 2 नवंबर को ग्लासगो में रहेंगे। यहां पर पीएम मोदी ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन से मुलाकात करेंगे और द्विपक्षीय संबंधों पर चर्चा करेंगे।

    पीएम मोदी एयरपोर्ट से सीधे होटल पहुंचे, जहां भारतीय समुदाय के लोगों ने उनका जोरदार स्वागत किया। इस दौरान भारतीयों ने 'मोदी है भारत का गहना' गाया। संयुक्त राष्ट्र फ्रेमवर्क कन्वेंशन ऑन क्लाइमेट चेंज (यूएनएफसीसीसी) के दलों का 26वां सम्मेलन (COP26) रविवार को स्कॉटलैंड के ग्लासगो में शुरू हुआ और यह 12 नवंबर को समाप्त होगा।

    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने ट्विटर अकाउंट से ट्वीट करते हुए लिखा कि मैं ग्लासगो में उतरा हूं। यहां मैं COP26 शिखर सम्मेलन में शामिल हो रहा हूं, जहां मैं जलवायु परिवर्तन से मुकावला करने और इस संबंध में भारत के प्रयासों को स्पष्ट करने के लिए अन्य विश्व नेताओं के साथ काम करने की उत्सुक हूं।

    शिखर सम्मेलन में लगभग 200 देशों का प्रतिनिधित्व करने वाले प्रतिनिधियों की भागीदारी देखी जाएगी और चर्चा 2030 तक वैश्विक उत्सर्जन में कटौती करने के तरीके पर केंद्रित होगी। प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी उन विश्व नेताओं में से हैं, जो COP26 के विश्व नेताओं के शिखर सम्मेलन को संबोधित करेंगे, जिसे 1 से 12 नवंबर तक आयोजित किया जाएगा।

    और भी...