ब्रेकिंग न्यूज़
  • इस गांव पर रोज रात धावा बोलता है लुटेरों का गिरोह: जिसके घर से खाने-पीने की खुशबू मिली, उसकी आई शामत
  • 6 घंटे के लिए शुरू हुआ किसानों का रेल रोको आंदोलन, लखनऊ में धारा 144 लागू, यहां दिख रहा असर
  • तीन मंत्रियों ने ली अफसरों की क्लास, डहरिया ने कहा- अस्पताल को बना रखा है मजाक
  • Delhi Fire: दिल्ली के LNJP अस्पताल में लगी आग, इमरजेंसी वार्ड से मरीजों को किया गया शिफ्ट
  • क्या पुंछ में भारतीय सेना के खिलाफ पाकिस्तान कमांडो भी आतंकवादियों का दे रहे साथ, पढ़ें ये रिपोर्ट
  • बड़ी खबर: ऐसे लगी सूरत की पैकेजिंग कंपनी में आग, 125 से ज्यादा मजदूरों का रेस्क्यू
  • क्रिकेटर युवराज सिंह को हरियाणा पुलिस ने किया गिरफ्तार, जानें पूरा मामला

बिजनेस

  • फेसबुक, WhatsApp और Instagram डाउन होने से मार्क जकरबर्ग का हुआ अरबों रुपये का नुकसान

    फेसबुक, WhatsApp और Instagram डाउन होने से मार्क जकरबर्ग का हुआ अरबों रुपये का नुकसान

    सोशल मीडिया के सबसे बड़े प्लेटफॉर्म्स माने जाने वाले फेसबुक (Facebook), इंस्टाग्राम (Instagram) और व्हाट्सएप (WhatsApp) के कुछ घंटे तक बंद होने से जहां दुनियाभर में करोड़ों यूजर्स को तो परेशानी हुई। इसके साथ ही फेसबुक के सीईओ मार्क जकरबर्ग (Mark Zuckerberg) को भी काफी नुकसान का सामना करना पड़ा है।

    खबरों की मानें तो मार्क को 7 अरब डॉलर का नुकसान हुआ है, जो करीब 52 हजार करोड़ रूपए के बराबर है। इसकी वजह से वह दुनिया में अमीर लोगों की लिस्ट से एक पायदान नीचे खिसक गए हैं।

    खबरों की मानें तो फेसबुक, इंस्टाग्राम और व्हाट्सएप में हुई इस परेशानी की वजह से फेसबुक के शेयर में 5 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई है, जो सितंबर के मध्य से अब तक देखा जाएं तो फेसबुक का शेयर करीब 15 प्रतिशत तक गिर गया है। कहा जा रहा है कि कुछ ही घंटों की इस परेशानी ने मार्क जुकरबर्ग को अमीरों की सूची में एक पायदान नीचे पहुंचे गए हैं। मार्क अब माइक्रोसॉफ्ट के संस्थापक बिल गेट्स से एक स्थान नीचे पहुंच गए हैं।

    अचानक ठप हो गया था सर्वर

    बता दें कि सोमवार रात बिना किसी सूचना के फेसबुक, व्हाट्सएप और इंस्टाग्राम का सर्वर अचानक डाउन हो गया था। जिसकी वजह से दुनियाभर में लोगों ने काफी परेशानियों का सामना करना पड़ा। किसी को समझ में नहीं आ रहा था कि ऐसा क्यों हुआ। कुछ यूजर्स तो ऐसे थे, जिन्होंने इन एप्स को हटाकर फिर से इंस्टॉल करने की कोशिश की। वहीं कुछ यूजर्स ने टेलीग्राम का इस्तेमाल किया। करीब छह घंटे तक यूजर्स परेशान रहें। कंपनी ने यूजर्स से माफी मांगकर फिर से ये सेवाएं शुरू की।

    और भी...

  • आपको भी ये गलती करनी पड़ सकती है भारी, WhatsApp ने भारत में बंद किए 20 लाख से ज्यादा अकाउंट

    आपको भी ये गलती करनी पड़ सकती है भारी, WhatsApp ने भारत में बंद किए 20 लाख से ज्यादा अकाउंट

    WhatsApp banned over 20 lakh users in India : वाट्सएप (WhatsApp) ने अगस्त महीने में 20 लाख से ज्यादा उपभोक्ताओं के खातों को बैन कर दिया है। इसकी जानकारी वाट्सएप की मंथली कंप्लायंस रिपोर्ट (Monthly Compliance Report) में दी गई है। कंपनी ने यह कदम 420 शिकायत आने के बाद यह कदम उठाया है।

    रिपोर्ट् के अनुसार, वाट्सएप भारत में 20,70,000 लाख अकाउंट्स को बंद कर दिया है। इन नंबर से ऑटोमैटेड (Automated) या बल्क मैसेज (Bulk Messages) शेयर किए जा रहे थे। इनमें 95 प्रतिशत खाते ऐसे थे, जिन्हें ऑटोमैटेड मैसेज के लिए इस्तेमाल किया जा रहा था।

    वाट्सएप की मासिक रिपोर्ट के आंकड़ों की मानें, अगस्त के दौरान प्लेटफॉर्म को अकाउंट सपोर्ट (105), बैन अपील (222), अन्य सपोर्ट (34), प्रोडक्ट सपोर्ट (42) और सेफ्टी (17) में 420 यूजर रिपोर्ट मिलीं। वाट्सएप ने 421 रिपोर्टों में से 41 खातों के खिलाफ कार्रवाई की।

    क्या होता है बल्क या ऑटोमैटेड मैसेज

    एक साथ बहुत सारे लोगों को मैसेज भेजने की प्रक्रिया को बुल्क या ऑटोमैटेड मैसेज कहा जाता है। इन दिनों सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म के जरिए गलत बातें और अफवाएं फैलाई जा रही है, जो बल्क या ऑटोमेटेड मैसेजिंग के दायरे में है। नई आइटी नियम के तहत इस तरह के मैसेस कानून का उल्लघंन करते है। जिसकी वजह से ऐसे नंबरों पर कार्रवाही की जा रही है।

    36 दिनों में बंद किए 30 लाख खाते

    वाट्सएप ने पहले पुष्टि की थी कि 36 दिनों में 30 लाख से अधिक खातों को बैन किया जा सकता है। ऑनलाइन दुरुपयोग को रोकने और उपयोगकर्ताओं की सुरक्षा को देखने हुए इन खातों को 16 जून से 31 जुलाई के बीच बैन कर दिया था।

    और भी...

  • ईडीएमसी के स्कूलों में नए शैक्षणिक सत्र के लिए 40 हजार से अधिक छात्रों ने लिया दाखिला

    ईडीएमसी के स्कूलों में नए शैक्षणिक सत्र के लिए 40 हजार से अधिक छात्रों ने लिया दाखिला

    र्वी दिल्ली नगर निगम (EDMC) द्वारा संचालित स्कूलों में नए शैक्षणिक सत्र के लिए 40,000 से अधिक बच्चों ने नामांकन किया है, इसकी पुष्टी ने एक वरिष्ठ अधिकारी ने की है। ईडीएमसी की शिक्षा समिति के अध्यक्ष राजीव कुमार ने मीडिया कांफ्रेंस में कहा कि 40,033 छात्रों में बहुत से छात्रों ने प्राइवेट स्कूलों को छोड़ नगर निकाय द्वारा संचालित स्कूलों में नामांकन किया है। उन्होंने कहा कि नए शैक्षणिक सत्र के लिए ईडीएमसी द्वारा संचालित स्कूलों में 40,033 छात्रों ने दाखिला लिया है।

    उन्होंने कहा कि इनमें से बड़ी संख्या में वे छात्र हैं जिन्होंने ईडीएमसी द्वारा संचालित स्कूलों में दाखिला लेने के लिए निजी स्कूलों को छोड़ दिया है। यह नगर निकाय द्वारा चलाए जा रहे स्कूलों में दी जा रही शिक्षा की गुणवत्ता में सुधार को दर्शाता है। श्री कुमार ने कहा कि पूर्वी निगम बच्चों को प्राथमिक स्तर पर गुणवत्तापूर्ण शिक्षा प्रदान करने का प्रयास कर रहा है। और इस प्रतिबद्धता के कारण केवल 40,033 छात्रों ने नामांकन किया है।

    ईडीएमसी के दो जोन हैं- शाहदरा (उत्तर) और शाहदरा (दक्षिण) है। राजीव कुमार के अनुसार प्रत्येक जोन में 15 स्कूलों को स्मार्ट क्लासरूम, कंप्यूटर लैब, अंग्रेजी माध्यम के निर्देश और अन्य सुविधाओं के साथ मॉडल स्कूल के रूप में विकसित किया जा रहा है।

     

    और भी...

  • UPCET Counselling 2021: यूपीसीईटी काउंसलिंग हुई स्थगित, जानें डिटेल्स

    UPCET Counselling 2021: यूपीसीईटी काउंसलिंग हुई स्थगित, जानें डिटेल्स

    UPCET Counselling 2021: डॉ एपीजे अब्दुल कलाम तकनीकी विश्वविद्यालय (AKTU) ने यूपीसीईटी 2021 काउंसलिंग स्थगित कर दी है। 16 सितंबर 2021 से शुरू होने वाला काउंसलिंग रजिस्ट्रेशन अपरिहार्य कारणों से स्थगित कर दिए गए हैं। उम्मीदवार जो काउंसलिंग राउंड 1 के लिए आवेदन करना चाहते हैं, वे एकेटीयू पर आधिकारिक नोटिस देख सकते हैं।

    यूनिवर्सिटी ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल पर भी नोटिस साझा किया है। ट्वीट में लिखा गया है कि अपरिहार्य कारणों से विश्वविद्यालय में आयोजित काउंसलिंग की प्रस्तावित तिथि को स्थगित करने के संबंध में महत्वपूर्ण सूचना।

    पहले शेड्यूल के अनुसार यूपीसीईटी 2021 काउंसलिंग रजिस्ट्रेशन 16 से 22 सितंबर 2021 तक आयोजित किया जाना था और चयनित छात्रों के लिए दस्तावेज़ सत्यापन प्रक्रिया 17 सितंबर से 23 सितंबर तक आयोजित की जानी थी। राउंड 1 के लिए सीट आवंटन सूची थी 25 सितंबर को जारी किया जाएगा। काउंसलिंग एम टेक, एम आर्क, एम फार्म और एम डेस को छोड़कर सभी कार्यक्रमों के लिए आयोजित की जानी थी।

    Home > कॅरि‍यर > UPCET Counselling 2021:... UPCET Counselling 2021: यूपीसीईटी काउंसलिंग हुई स्थगित, जानें डिटेल्स डॉ एपीजे अब्दुल कलाम तकनीकी विश्वविद्यालय (AKTU) ने यूपीसीईटी 2021 काउंसलिंग स्थगित कर दी है। 16 सितंबर 2021 से शुरू होने वाला काउंसलिंग रजिस्ट्रेशन अपरिहार्य कारणों से स्थगित कर दिए गए हैं। HansrajCreated On:  16 Sep 2021 2:08 PMLast Updated On:  16 Sep 2021 7:38 PM UPCET Counselling 2021: डॉ एपीजे अब्दुल कलाम तकनीकी विश्वविद्यालय (AKTU) ने यूपीसीईटी 2021 काउंसलिंग स्थगित कर दी है। 16 सितंबर 2021 से शुरू होने वाला काउंसलिंग रजिस्ट्रेशन अपरिहार्य कारणों से स्थगित कर दिए गए हैं। उम्मीदवार जो काउंसलिंग राउंड 1 के लिए आवेदन करना चाहते हैं, वे एकेटीयू पर आधिकारिक नोटिस देख सकते हैं। यूनिवर्सिटी ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल पर भी नोटिस साझा किया है। ट्वीट में लिखा गया है कि अपरिहार्य कारणों से विश्वविद्यालय में आयोजित काउंसलिंग की प्रस्तावित तिथि को स्थगित करने के संबंध में महत्वपूर्ण सूचना। पहले शेड्यूल के अनुसार यूपीसीईटी 2021 काउंसलिंग रजिस्ट्रेशन 16 से 22 सितंबर 2021 तक आयोजित किया जाना था और चयनित छात्रों के लिए दस्तावेज़ सत्यापन प्रक्रिया 17 सितंबर से 23 सितंबर तक आयोजित की जानी थी। राउंड 1 के लिए सीट आवंटन सूची थी 25 सितंबर को जारी किया जाएगा। काउंसलिंग एम टेक, एम आर्क, एम फार्म और एम डेस को छोड़कर सभी कार्यक्रमों के लिए आयोजित की जानी थी। Also Read - UPSC CMS Exam 2021: यूपीएससी सीएमएस परीक्षा का शेड्यूल हुआ जारी, चेक करें नोटिस विश्वविद्यालय द्वारा पांच राउंड में काउंसलिंग आयोजित की जाती है। छात्रों को अपने आवेदन संख्या और नामांकन संख्या का उपयोग करके परामर्श प्रक्रिया के लिए खुद को पंजीकृत करना आवश्यक है। इसी बीच एकेटीयू ने यूपीसीईटी काउंसलिंग के लिए आरक्षित वर्ग को लेकर अहम नोटिस जारी किया था। विश्वविद्यालय ने उन अभ्यर्थियों को लाभ देने का निर्णय लिया था जो काउंसलिंग के समय अपना आरक्षित श्रेणी का प्रमाण पत्र प्रस्तुत करेंगे। आरक्षित श्रेणी के जो प्रमाण पत्र 31 मार्च 2021 से पहले जारी किए गए हैं, उन्हें वैध माना जाएगा। यूपीसीईटी और जेईई मेन परीक्षा के लिए काउंसलिंग राउंड के लिए 1 अप्रैल, 2021 से जारी किए गए प्रमाणपत्रों को मान्य नहीं माना जाएगा।

     

    और भी...

  • Apple ने लॉन्च की iPhone 13 सीरिज, जानें आपके लिए कौन सा है बेहतर

    Apple ने लॉन्च की iPhone 13 सीरिज, जानें आपके लिए कौन सा है बेहतर

    आईफोन यूजर्स का iPhone 13 सीरिज को लेकर इंतजार आज खत्म हो गया है। Apple ने अपने कैलिफोर्निया स्ट्रीमिंग इवेंट में iPhone 13 लाइनअप के साथ-साथ अन्य प्रोडक्ट्स में चार नए मॉडल लॉन्च कर दिए है। नए एंट्री-लेवल मॉडल और 5G इनेबल्ड iPad मिनी के साथ iPad सेगमेंट में कई बड़े अपडेट हुए है। इनका डिजाइन भी अपग्रेड हुआ है।

    ऐप्पल वॉच सीरीज भी हुई लांच कंपनी ने ऐप्पल वॉच (Apple Watch) की सीरीज 7 भी रिलीज हुई है, जिसमें कई बदलाव किए गए हैं। कहा जा रहा है कि इस साल के अंत से पहले यह उपलब्ध नहीं हो सकेगी।

    कब मिलेगा भारत में iPhone 13 को भारत में 17 सितंबर से प्री-ऑर्डर के लिए उपलब्ध होंगे और बिक्री 24 सितंबर से शुरू हो जाएगी।

    क्या नया है इस बार Apple की iPhone 13 सीरीज A15 बायोनिक चिपसेट पर चलती है, जो कि सिक्स-कोर चिपसेट है। IPhone 13 प्रो सीरीज 120 हर्ट्ज डायनेमिक रिफ्रेश रेट या जिसे Apple 'प्रोमोशन' एडेप्टिव रिफ्रेश रेट' कहा जाता है।
     

    कितने में मिलेगा

    1- आईफोन 13 प्रो - 1,19,900 रुपए 2- आईफोन 13 प्रो मैक्स - 1,29,900 रुपए 3- आईफोन 13 - 79,900 रुपए 4- आईफोन 13 मिनी - 69,900 रुपए

     

    और भी...

  • तेल सस्ता करने के लिए सरकार ने उठाया ये बड़ा कदम, इन पर होगी बड़ी कार्रवाई

    तेल सस्ता करने के लिए सरकार ने उठाया ये बड़ा कदम, इन पर होगी बड़ी कार्रवाई

    दिनों दिन खाने के तेल के बढ़ते दामों को लेकर अब सरकार ने सख्त रूख अपना लिया है। इसी को देखते हुए उपभोक्ता मंत्रालय ने सभी राज्यों के व्यापारियों को एक पत्र जारी कर दिया है। इस पत्र के द्वारा उन्होंने सभी व्यापारियों से हर सप्ताह स्टॉक घोषित करने की मांग की है। जिसके बाद सरकार दलहन की तरह ही तिलहन के स्टॉक और उसके दाम चेक कराएगी। इसमें राज्य आपूर्ति अधिकारी (Stock Check) स्टॉक चेक रेटों का रिव्यू करेंगे। इसकी वजह सरसों से लेकर रिफाइड समेत खाने के तेलों में पिछले साल में बहुत अधिक बढ़ोतरी दर्ज की गई है। इन पर काबू पाने के लिए सरकार कई बड़े कदम उठा रही है।

    सरकार की मानें तो खाद्य तेलों के दाम बढ़ने की असली वजह जमाखोरी है। सरकार ने दामों को रोकने के लिए आयात सीमा शुल्क भी कम कर दिया था। इसके बावजूद तेल की कीमतों पर कोई असर नहीं पड़ा। इसी को देखते हुए सरकार ने अब जमाखोरों पर शिकंजा कसने के लिए आवश्यक वस्तु अधिनियम (ईसीए) के तहत कारोबारियों, व्यापारियों और प्रसंस्करण करने वाली इकाइयों को स्टॉक का खुलासा करने का आदेश दिया है। साथ ही इसकी जिम्मेदारी राज्य सरकार को दी है। वस्तु अधिनियम के तहत राज्य सरकारों का यह अधिकार दिया गया है।

    दरअसल तेलों में लगातार हो रही बढ़ोतरी को देखते हुए सरकार को यह फैसला लेना पड़ा है। सरकार ने 2021 22 के लिए सरसों का न्यूनतम समर्थन मूल्य यानि एमएसपी 4650 रुपये प्रति क्विटंल रखा था, लेकिन इस समय बाजार में सरसों की कीमतों की बात करें तो यह 9500 रुपये प्रति क्विटंल पहुंच गई हैं। वहीं इसमें अभी भी तेजी की संभावना नहीं हुई है। इसकी अब सरसों के तेल में दूसरे खाद्य तेलों की ब्लैंडिंग को रोक दिया गया है। इसकी वजह से सरसों के तेल की मांग काफी ऊपर पहुंच गई है।

     

    और भी...

  • Royal Enfield ने मार्किट में उतारी नई Classic 350, कंपनी ने सेफ्टी को लेकर दिया खास ध्यान

    Royal Enfield ने मार्किट में उतारी नई Classic 350, कंपनी ने सेफ्टी को लेकर दिया खास ध्यान

    जयपुर। बुलट का शौक रखने वालों के लिए अच्छी खबर है। मोटर साइकिल निर्माता रॉयल एनफील्ड (Royal Enfield) ने ऑल-न्यू क्लासिक 350 मॉडल (Classic 350 model) को राजस्थान (Rajasthan) के बाजार में उतारा। क्लासिक रॉयल एनफील्ड (Classic Royal Enfield) के ब्रांड प्रबंधक अनुज दुआ ने जयपुर (Jaipur) में बताया कि राजस्थान कंपनी के लिए प्रमुख बाजारों में से एक है जहां 'हम नियमित रूप से ग्राहकों से प्रतिपुष्टि (Feedback) लेते हैं।' उन्होंने कहा कि रॉयल एनफील्ड की 150 CC से अधिक श्रेणी में राजस्थान के बाजार में 45 प्रतिशत हिस्सेदारी है जिसमें क्लासिक 350 श्रेणी के मॉडल का महत्वपूर्ण 65 प्रतिशत योगदान है। उन्होंने कहा कि नई क्लासिक 350 हमारे जे सीरीज इंजन पर बनी है और कंपनी ने मोटरसाइकिल के हर पहलू पर काफी ध्यान दिया है।

    मौजूदा समय में नए 2021 रॉयल एनफील्ड क्लासिक 350 के आधिकारिक एक्सेसरीज (Accessories) को 8 कैटीगरी के तहत सूचीबद्ध किया गया है। जिसमें सेफ़्टी (Safety), कंट्रोल (Control), सीटें (Seaten), बॉडीवर्क (Bodywork), लगेज (Luggage), इंजन (Engine), सिक्योरिटी (Security), मेंटनेंस (Maintenance) और व्हील्स (Wheels) शामिल हैं। हम यहां पर कुछ चुनिंदा एक्सेसरीज और उनकी कीमत दी जा रही हैं, जिससे आप इनके बारे में अपना बजट बना सकते हैं।

    गाड़ी की खासियत नई Royal Enfield Classic 350 एक 349cc सिंगल सिलेंडर, 4-Stroke, एयर-ऑयल कूल्ड इंजन के साथ आता है, जो 4000rpm पर 27Nm का टार्क और 6100rpm पर 20.2 BHP की पावर जेनरेट करता है। ये इंजन 5-स्पीड गियरबॉक्स के साथ आता है। कम कंपन और स्मूथ ऑपरेशन के लिए, इंजन में एक एडवांस्ड SOHC और बैलेंसर शाफ्ट शामिल है। दूसरी ओर जावा 293cc सिंगल-सिलेंडर इलेक्ट्रॉनिक फ्यूल इंजेक्शन इंजन के साथ आता है जो 27.33 BHP की पावर और 27.02 Nm का पीक टार्क जेनरेट करता है। ये बाइक इंजन 6-स्पीड गियरबॉक्स के साथ आता है।

     

    और भी...

  • Maruti Suzuki ने यात्री वाहनों पर इस साल तीसरी बार बढ़ाई कीमतें जानें कितने प्रतिशत तक की वृद्धि

    Maruti Suzuki ने यात्री वाहनों पर इस साल तीसरी बार बढ़ाई कीमतें जानें कितने प्रतिशत तक की वृद्धि

    नई दिल्ली। देश की सबसे बड़ी कार निर्माता कंपनी मारुति सुजुकी इंडिया (Maruti Suzuki India) ने कहा कि उसने सेलेरियो (Celerio) को छोड़कर अपने सभी यात्री वाहनों की कीमतों में तत्काल प्रभाव से 1.9 प्रतिशत तक की वृद्धि की है। कंपनी ने एक नियामकीय सूचना में कहा कि उसने विभिन्न इनपुट लागतों में वृद्धि के कारण कीमतें बढ़ाने का फैसला किया है। कंपनी ने कहा कि यात्री वाहनों की एक्स-शोरूम कीमतों (नयी दिल्ली) में औसत रूप से 1.9 प्रतिशत की वृद्धि की गयी। Maruti Suzuki India ने इस साल तीसरी बार कीमतें बढ़ायी हैं। इससे पहले उसने जनवरी और अप्रैल में कीमतों में कुल मिलाकर लगभग 3.5 प्रतिशत की वृद्धि की थी।

    इस समय कंपनी एंट्री-लेवल हैचबैक ऑल्टो से लेकर एस-क्रॉस तक कई मॉडल बेचती है, जिनकी कीमत क्रमशः 2.99 लाख रुपये और 12.39 लाख रुपये (दिल्ली में एक्स-शोरूम कीमत) के बीच है। कार निर्माता कंपनी ने पिछले महीने कहा था कि कीमतें बढ़ाना जरूरी है क्योंकि सामानों की बढ़ती कीमतों के बीच उसे अपनी लाभप्रदता को बचाना है।

    Maruti Suzuki India के वरिष्ठ कार्यकारी निदेशक (बिक्री और विपणन) शशांक श्रीवास्तव ने कहा था कि कंपनी के पास सामानों की ऊंची लागत के प्रभाव को दूर करने के लिए कीमतों में वृद्धि करने के अलावा कोई दूसरा विकल्प नहीं बचा है। उन्होंने कहा था कि इस साल मई-जून में इस्पात की कीमतें पिछले साल इसी अवधि के 38 रुपये प्रति किलो से बढ़कर 65 रुपये प्रति किलो हो गयीं। वहीं इस दौरान में तांबे की कीमतें भी 5,200 डॉलर प्रति टन से दोगुनी होकर 10,000 डॉलर प्रति टन हो गयीं।

     

    और भी...

  • तेल कंपनियों ने जारी किए पेट्रोल-डीजल के दाम, जानें आज कितनी घटी तेल की कीमतें

    तेल कंपनियों ने जारी किए पेट्रोल-डीजल के दाम, जानें आज कितनी घटी तेल की कीमतें

    नई दिल्ली। देश में पेट्रोल-डीजल को लेकर मची महंगाई की हलचल अभी तेज है। लगभग सभी राज्यों में तेल की कीमतों ने रिकॉर्ड बनाया हुआ है। वहीं सरकारी तेल कंपनियों (Oil Companies) की ओर से आज लगातार दूसरे दिन भी पेट्रोल-डीजल के दामों (Petrol Diesel Price) में कोई बदलाव नहीं हुआ है। बीते रविवार को पेट्रोल की कीमत 13 से 15 पैसे, तो वहीं डीजल की कीमत 14-15 पैसे घटी थी। हालांकि अब भी प्रमुख बड़े शहरों में पेट्रोल की कीमत 100 रुपये से ऊपर बनी हुई है।

    आज दिल्ली में पेट्रोल का दाम (Today Petrol Price in Delhi) 101.19 रुपये जबकि डीजल का दाम 88.62 रुपये प्रति लीटर है। मुंबई में पेट्रोल की कीमत (Petrol Price in Mumbai) 107.26 रुपये व डीजल की कीमत 96.19 रुपये प्रति लीटर है। कोलकाता में पेट्रोल का दाम (Petrol Price in Kolkata) 101.62 रुपये जबकि डीजल का दाम 91.71 रुपये लीटर है। वहीं चेन्नई में भी पेट्रोल (Petrol Price in Chennai) 98.96 रुपये लीटर है तो डीजल 93.26 रुपये लीटर है।
    बता दें कि मध्यप्रदेश (Madhya Pradesh), राजस्थान (Rajasthan), महाराष्ट्र (Maharashtra), आंध्र प्रदेश (Andhra Pradesh), तेलंगाना (Telangana), कर्नाटक (Karnataka), ओडिशा (Odissa), जम्मू-कश्मीर (Jammu Kashmir) और लद्दाख (Laddakh) में पेट्रोल का भाव 100 रुपये पार हो चुका है। मुंबई में पेट्रोल की कीमत सबसे अधिक है। हालांकि अब ऐसे संकेत मिल रहे हैं कि जल्द ही पेट्रोल की बढ़ती कीमतों से आम आदमी को राहत मिल सकती है। क्योंकि पिछले हफ्ते भी तेल कंपनियों ने पेट्रोल और डीजल की कीमतों में कटौती की थी।

     

    और भी...

  • OTT प्लेटफॉर्म के शौकीनों के लिए शानदार मौका, Amazon Prime की फ्री सब्सक्रिप्शन

    OTT प्लेटफॉर्म के शौकीनों के लिए शानदार मौका, Amazon Prime की फ्री सब्सक्रिप्शन

    नई दिल्ली। देश में कोरोना वायरस के कारण अर्थव्यवस्था पर खासा प्रभाव पड़ा है। इस घातक बीमारी ने देश की अर्थव्यवस्था के साथ-साथ फिल्म उद्योग जगत पर भी अपना प्रभाव डाला है। अब कोरोना जैसी जानलेवा बीमारी की वजह से लोगों ने थिएटर खुलने के बावजूद एहतियात के तौर पर वहां का रुख करना बंद कर रखा है। अब ऐसे में OTT प्लेटफॉर्म की मांग बहुत तेजी से बढ़ी है। OTT प्लेटफॉर्म पर दिखाई जाने वाली वेब सीरीज और रोमांचक फिल्मों ने लोगों को बांधे रखा हुआ है। अब ऐसे में कई लोग ऐसे हैं जो आने वाली फिल्में और वेब सीरीज देखने का शौक तो रखते हैं मगर इन प्लेटफॉर्म्स का सब्सक्रिप्शन नहीं ले पाते हैं। ये खबर असल में उन्हीं लोगों के लिए है।

    भारत में नेटफ्लिक्स (Netflix), अमेजन प्राइम (Amazon Prime) हॉटस्टार (Hotstar) जी फाइव (Zee5) जैसी प्रमुख एप्स हैं, हालांकि ये एप्स फ्री नहीं हैं। इनके लिए हर महीने आपको इसका चार्ज देना होता है लेकिन कुछ शॉर्टकर्ट रास्ते भी हैं जिनके जरिए आप इन Apps का फ्री सब्सक्रिप्शन (Free Subscription) प्राप्त कर सकते हैं। आज की इस रिपोर्ट में हम आपको Amazon Prime का फ्री सब्सक्रिप्शन का तरीका बताएंगे। Amazon Prime के सब्सक्रिप्शन में आपको प्राइम वीडियो के अलावा 70 लाख से अधिक गानों का Access और Amazon के एक्सक्लूसिव ऑफर मिलता है। Amazon Prime का एक महीने का सब्सक्रिप्शन 329 रुपये का है, जबकि तीन महीने का सब्सक्रिप्शन 999 रुपये का है।
     

    और भी...

  • SBI की 3 घंटे बंद रहेंगी ये सेवाएं, किसी भी तरह का ट्रांजेक्शन करने से पहले पढ़ लें ये खबर

    SBI की 3 घंटे बंद रहेंगी ये सेवाएं, किसी भी तरह का ट्रांजेक्शन करने से पहले पढ़ लें ये खबर

    नई दिल्ली। देश के सबसे बड़े सरकारी बैंक स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (State Bank of India) के करोड़ों कस्टमर्स के लिए बैंक ने अलर्ट जारी किया है। SBI की कुछ सेवाएं आज रात तीन घंटे के लिए बंद रहेंगी। SBI ने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म ट्विटर (Twitter) पर इसकी जानकारी देते हुए एक पोस्ट शेयर कर दी है इसमें कहा गया है कि maintenance activities के कारण 4 सितंबर की रात 22:35 बजे से 5 सितंबर को तड़के 01:35 बजे तक बैंकिंग सेवाएं उपलब्ध नहीं रहेंगी। Also Read - अर्थशास्त्रियों ने जताई उम्मीद- नौकरी के लिहाज से वित्त वर्ष 2021-22 में होगा काफी सुधार

    SBI ने अपने ट्वीट में जानकारी देते हुए बताया है कि मेंटेनेंस के कारण 4 सितंबर की रात 22:35 बजे से 5 सितंबर को तड़के 01:35 बजे तक यानी कुल 3 घंटे बैंकिंग सेवाएं (Bank Services) बंद रहेंगी। इस दौरान इंटरनेट बैंकिंग (Internet Banking), योनो (YONO), योनो लाइट (YONO Lite), योनो बिजनस (YONO Business), आईएमपीएस (IMPS) और यूपीआई (UPI) सेवाएं उपलब्ध नहीं रहेंगी। यानी इस दौरान कस्टमर इन सेवाओं का इस्तेमाल नहीं कर सकेंगे।

    पिछले दो महीनों में भी सेवाएं हुई थीं प्रभावित बता दें कि इससे पहले जुलाई और अगस्त में भी SBI ने मेंटेनेंस की वजह से Bank Services को बंद किया था। आमतौर पर मेंटेनेंस का काम रात में होता है। ऐसे में ज्यादा लोग प्रभावित नहीं होते हैं। देश में SBI के इंटरनेट बैंकिंग (Internet Banking) के अलावा UPI और YONO ग्राहकों की कुल संख्या 25 करोड़ से ज्यादा है। एसबीआई देश का सबसे बड़ा सरकारी बैंक है। पूरे देश में इसकी शाखाएं हैं।

     

    और भी...

  • अर्थशास्त्रियों ने जताई उम्मीद- नौकरी के लिहाज से वित्त वर्ष 2021-22 में होगा काफी सुधार

    अर्थशास्त्रियों ने जताई उम्मीद- नौकरी के लिहाज से वित्त वर्ष 2021-22 में होगा काफी सुधार

    मुंबई। पिछले दो सालों से कोरोना वायरस महामारी के कारण देश की अर्थव्यवस्था काफी प्रभावित हुई है। खासकर नौकरीपेशा लोगों को इस बीमारी की मार ने तोड़ कर रख दिया है। लाखों लोगों को अपनी नौकरी से हाथा तक धोना पड़ गया है। मगर अब हालात धीरे-धीरे सामान्य होते जा रहे हैं। इसी को देखते हुए देश के सबसे बड़े बैंक State Bank of India के अर्थशास्त्रियों (Economist) का मानना है कि वित्त वर्ष 2021-22 (Financial Year 2021-22) में श्रम बाजार (labour market) की गतिविधियां सुधरेंगी और कंपनियां (Companies) महामारी कम होने के साथ नियुक्ति की योजनाओं को आगे बढ़ा रही हैं। Economits ने कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (Employees Provident Fund Organization) और नई पेंशन योजना (New Pension Schemes) के नियमित तौर पर जारी मासिक वेतन रजिस्टर (monthly salary register) के आंकड़ों का जिक्र किया।

    Home > ऑटो गैजेट > अर्थशास्त्रियों ने जताई... अर्थशास्त्रियों ने जताई उम्मीद- नौकरी के लिहाज से वित्त वर्ष 2021-22 में होगा काफी सुधार देश के सबसे बड़े बैंक State Bank of India के अर्थशास्त्रियों का मानना है कि वित्त वर्ष 2021-22 में श्रम बाजार की गतिविधियां सुधरेंगी और कंपनियां महामारी कम होने के साथ नियुक्ति की योजनाओं को आगे बढ़ा रही हैं। एसबीआई अर्थशास्त्री Mohammad SaqibCreated On:  4 Sep 2021 12:37 PMLast Updated On:  4 Sep 2021 6:07 PM मुंबई। पिछले दो सालों से कोरोना वायरस महामारी के कारण देश की अर्थव्यवस्था काफी प्रभावित हुई है। खासकर नौकरीपेशा लोगों को इस बीमारी की मार ने तोड़ कर रख दिया है। लाखों लोगों को अपनी नौकरी से हाथा तक धोना पड़ गया है। मगर अब हालात धीरे-धीरे सामान्य होते जा रहे हैं। इसी को देखते हुए देश के सबसे बड़े बैंक State Bank of India के अर्थशास्त्रियों (Economist) का मानना है कि वित्त वर्ष 2021-22 (Financial Year 2021-22) में श्रम बाजार (labour market) की गतिविधियां सुधरेंगी और कंपनियां (Companies) महामारी कम होने के साथ नियुक्ति की योजनाओं को आगे बढ़ा रही हैं। Economits ने कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (Employees Provident Fund Organization) और नई पेंशन योजना (New Pension Schemes) के नियमित तौर पर जारी मासिक वेतन रजिस्टर (monthly salary register) के आंकड़ों का जिक्र किया। Also Read - Renault ने अपनी नई 7 सीटर Dacia Jogger से उठाया पर्दा, CNG और 6 एयरबैग्स के साथ कंपनी ने दिए ये कमाल के फीचर्स एसबीआई के मुख्य अर्थशास्त्री सौम्य कांति घोष ने एक नोट में कहा कि हमारा अनुमान है कि चालू वित्त वर्ष में श्रम बाजार की गतिविधियां बेहतर रहेंगी। कंपनियां आने वाले समय में नियुक्ति योजनाओं (Appointment Schemes) को अमल में लाएंगी। रोजगार (Employment) को लेकर यह उम्मीद ऐसे समय जतायी गयी है, जब दूसरी महामारी (Corona virus second wave) के बाद बेरोजगारों की संख्या बढ़ने और अर्थव्यवस्था में श्रम भागीदारी में कमी को लेकर चिंता जतायी जा रही है। सेंटर फार मॉनिटरिंग इंडियन एकोनॉमी (Center for Monitoring Indian Economy) के अनुसार केवल अगस्त महीने में 15 लाख भारतीयों की नौकरियां चली गयी। इसमें 13 लाख ग्रामीण क्षेत्रों से हैं।

    देश में रोजगार आंकड़े की कमी को लेकर विभिन्न तबकों में चिंता जतायी जाती रही है। EPFO और एनपीएस के रोजगार के आंकड़े की आलोचना की जाती रही है क्योंकि यह केवल संगठित क्षेत्र में नौकरियों तक सीमित है। जबकि बहुत सारा काम असंगठित क्षेत्र में होता है। घोष ने कहा कि क्षेत्र को संगठित रूप देने की दर 10 प्रतिशत है। कुल नियमित रोजगार (regular employment) में नई नौकरी का अनुपात 50 प्रतिशत है। यह बताता है कि प्रत्येक दो रोजगार में एक नियमित नौकरी में नया जुड़ाव है। यह पिछले साल के वित्त वर्ष 2020-21 में 47 प्रतिशत था। यानी इसमें सुधार हुआ है।

     

    और भी...

  • Renault ने अपनी नई 7 सीटर Dacia Jogger से उठाया पर्दा CNG और 6 एयरबैग्स के साथ

    Renault ने अपनी नई 7 सीटर Dacia Jogger से उठाया पर्दा CNG और 6 एयरबैग्स के साथ

    नई दिल्ली। फ्रेंच कार निर्माता कंपनी रेनो (Renault) ने अपनी नई 7-सीटर कार Dacia Jogger से पर्दा उठा दिया है। कार को UK market में उतारा गया है। रेनो कंपनी का दावा है कि यह सभी तरह की गाड़ियों का मिश्रण है। इस गाड़ी की लंबाई एक एस्टेट कार जैसी है, जबकि Space के मामले में यह MPV की तरह है और स्लाइडिग में SUV की फीलिंग देती है। कार को कंपनी के CMF-B Platform पर तैयार किया गया है। कार की लंबाई 4.5 मीटर और इसका Ground Clearance 200mm है।

    5 कलर ऑप्शन में मौजूद Renault Dacia Jogger में कंपनी ने बिलकुल हटकर स्टाइलिंग दी है। इस 7-सीटर फैमिली कार में एक बड़ी Grill और Dacia के सिग्नेचर के साथ Y-शेप LED DRL दिए गए हैं। वहीं गाड़ी के पीछे की तरफ, वर्टिकल टेल-लाइट्स, रियर वाइपर और एक क्लीनर टेलगेट मिलता है। कार में एक Moduler Roof रेल दी गई है, जो 80 किग्रा तक का वजन सहन कर सकती है। 7-सीटर मॉडल को 5 कलर ऑप्शन- पर्ल ब्लैक (Pearl Black), स्लेट ग्रे (Slate Grey), मूनस्टोन ग्रे (Moonstar Grey), ग्लेशियर व्हाइट (Glacier White) और टेराकोटा ब्राउन (Torakota Brown) में लाया गया है।
     

    कंपनी ने इस कार में कनेक्टेड फीचर्स के साथ 3 Multimedia और Infotenmaint System दिए हैं। डैशबोर्ड में Smartphone के लिए एक डॉकिंग स्टेशन भी दिया गया है। यह 8-इंच टचस्क्रीन इंफोटेनमेंट सिस्टम के साथ आता है, जो Android Auto और Apple CarPlay सपोर्ट करता है। यह इन-कार नेविगेशन फंक्शन, दो यूएसबी पोर्ट्स और 6 स्पीकर्स के साथ अपग्रेडेड ऑडियो सिस्टम भी सपोर्ट करता है। इसमें 6 एयरबैग्स के साथ एडवांस्ड ड्राइवर असिस्टेंस सिस्टम (एडीएएस) भी मिलता है। यह इमरजेंसी ब्रेक असिस्ट, ब्लाइंड स्पॉट वार्निंग, पार्क असिस्ट, रियर व्यू कैमरा, हिल स्टार्ट असिस्ट, ESC (इलेक्ट्रॉनिक स्टेबिलिटी कंट्रोल) और एक स्पीड लिमिटर की सुविधा देता है।

     

    और भी...

  • तेल कंपनियों ने आम आदमी को दी राहत, जानें आज किस रेट पर मिल रहा पेट्रोल-डीजल

    तेल कंपनियों ने आम आदमी को दी राहत, जानें आज किस रेट पर मिल रहा पेट्रोल-डीजल

    नई दिल्ली। देश में पेट्रोल-डीजल की कीमतें अभी भी रिकॉर्ड ऊंचाई पर बनी हुई हैं। देश के लगभीग सभी बड़े राज्यों में कच्चे तेल की कीमतों ने आम आदमी की परेशानी को और भी ज्यादा बढ़ा कर रख दिया है। हालांकि पिछले दिनों तेल के दामों में मामूली कटौती भी हुई बावजूद इसके तेल की कीमतें अभी भी आसमान छू रही हैं। भारतीय तेल कंपनियों (Oil Companies) ने आज (शनिवार) यानी 04 सितंबर के लिए पेट्रोल (Petrol) और डीजल (Diesel) के रेट जारी कर दिए हैं। तेल कंपनियों ने आज आम आदमी को राहत देते हुए लगातार तीसरे दिन ईंधन (Fuel Price) के भाव में कोई तब्दीली नहीं की है।

    तेल की कीमतों पर मामूली राहत ये है कि राष्ट्रीय राजधानी समेत पूरे देश में पेट्रोल-डीजल की कीमतें लगातार तीसरे दिन स्थिर हैं। इंडियन ऑयल (IOCL) के ताजा अपडेट के मुताबिक, पेट्रोल (Petrol) और डीजल (Diesel) दोनों ही ईंधन की कीमतों (Fuel Price) में कोई बदलाव नहीं किया गया है। इससे पहले 01 सितंबर को पेट्रोल-डीजल की कीमतों में मामूली कटौती हुई थी।

    दिल्ली में इंडियन ऑयल (IOC) के पंप पर पेट्रोल 101.34 रुपये प्रति लीटर और डीजल 88.77 रुपये प्रति लीटर बिक रहा है। वहीं, मुंबई में पेट्रोल का रेट 107.39 रुपये प्रति लीटर जबकि डीजल 96.33 रुपये प्रति लीटर पर स्थिर है। बता दें कि पेट्रोल-डीजल (Petrol-Diesel) की कीमतें भले ही स्थिर हैं, लेकिन अभी भी रिकॉर्ड स्‍तर पर हैं।

     

    और भी...

  • Maruti Suzuki की लाखों गाड़ियों में खामी आने से कंपनी ने वापस मंगाए अपने वाहन

    Maruti Suzuki की लाखों गाड़ियों में खामी आने से कंपनी ने वापस मंगाए अपने वाहन

    नई दिल्ली। मारुति सुजुकी (Maruti Suzuki) देश की बड़ी वाहन निर्माता कंपनियों में से एक है। हाल ही में आई एक खबर मारुति सुजुकी के ग्राहकों के लिए बेहद जरूरी है। कंपनी ने अपने अलग-अलग Models की कुल 1.81 लाख यूनिट्स की रिकॉल किया है। इन गाड़ियों में सेफ्टी-संबंधित खामी (Safety Problem) मिलने की आशंका है, जिसकी कंपनी द्वारा जांच की जाएगी। मारुति सुजुकी खुद ही ऐसे ग्राहकों को संपर्क करके मारुति सुजुकी वर्कशॉप (Maruti Suzuki Workshop) पर बुलाएगी, जिनके पास प्रभावित मॉडल्स मौजूद हैं। इन मॉडल्स को 2018 से 2020 के बीच बनाया गया था।

    कंपनी ने एक प्रेस विज्ञप्ति के जरिए बताया कि जिन गाड़ियों को वापस बुलाया गया है, उनमें पेट्रोल इंजन वाली Ciaz, S-Cross, Vitara Brezza, Ertiga और XL6 शामिल हैं। उन्हीं यूनिट्स में खामी पाई गई है, जो 4 मई 2018 से 27 अक्टूबर 2020 के के बीच Manufacturer की गई हैं। Maruti Suzuki को शक है कि इस अवधि में बनी 181,754 कार में Manufacturing Defect हो सकते हैं। कंपनी इन गाड़ियों की मोटर जेनरेटर यूनिट (Motor Generate Unit) की जांच करेगी और खामी पाई जाने पर मुफ्त में बदल देगी।

    आप खुद भी यह जान सकते हैं कि आपकी गाड़ी को रिकॉल किया गया है या नहीं। इसके लिए अपने मॉडल के हिसाब से Maruti Suzuki या Nexa की वेबसाइट पर लॉगिन करें। यहां आपको अपनी गाड़ी का व्हीकल चेसी नंबर (MA3, इसके बाद 14 अंकों का न्यूमेरिक नंबर) दर्ज करें। इससे पता लग जाएगा कि आपकी गाड़ी की भी जांच की जानी है या नहीं।

     

    और भी...